महंत परमहंस ने किया खुलासा कहा- आप और कांग्रेस ने बीजेपी के खिलाफ बोलने के लिए दिया 100 करोड़ का ऑफर

अयोध्या में राम मंदिर जमीन के विवाद पर राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है। एक तरफ जहां तमाम विपक्षी पार्टियां कांग्रेस, आप और सपा राम मंदिर ज़मीन विवाद के मुद्दे को भुनाने में लगी है वहीं दूसरी तरफ भाजपा ने पूरे मामले से किनारा कर लिया है। सभी पार्टियां केवल एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप करती नजर आ रही है। हालांकि राम जन्मभूमि ट्रस्ट ने यह साफ कर दिया है की श्री राम मंदिर निर्माण के लिए किसी तरह का कोई जमीन घोटाला नही हुआ है। इस बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास (Mahant Paramhans Das) ने आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस (Congress) पर गंभीर आरोप लगाया है। दरअसल, महंत ने कहा है कि उन्हें ट्रस्ट और बीजेपी का विरोध करने के लिए 100 करोड़ रुपए का ऑफर दिया जा रहा है।

शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती को 50 करोड़ में आम आदमी पार्टी, सपा और कांग्रेस ने खरीदा
महंत परमहंस दास ने गुरुवार को एक पत्र जारी किया है, जिसमें उन्होंने आरोप लगाते हुए बताया कि सुबह 7 बजे 2 व्यक्ति आए और उन्हें 100 करोड़ रुपए ऑफर करते हुए कहा कि ट्रस्ट और बीजेपी का विरोध करें। महंत परमहंस दास ने पत्र में यह भी बताया है कि उन दोनों व्यक्तियों ने यह भी कहा कि शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती को 50 करोड़ में आम आदमी पार्टी, सपा और कांग्रेस ने खरीद लिया है और उनके अनुयायी अब ट्रस्ट और भाजपा का विरोध करने में लग गए हैं। महंत ने पत्र में आगे बताया कि जब मैं नहीं माना तो मुझे कहा कि अगर आम आदमी या कांग्रेस की जीत हुई तो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री जगदगुरु परमहंस आचार्य जी आप होंगे। तब मैंने कहा कि मैं संत हूं कोई किराए का टट्टू नहीं और तमाम बातें कहीं, लेकिन जब मैंने दो टूक जवाब दिया कि मेरे लिए राष्ट्रहित सर्वोपरि है, तब वो चले गए। वो कांग्रेस और आम आदमी पार्टी द्वारा भेजे गए थे।

गौरतलब हो की शारदा पीठ के शंकराचार्य जगतगुरू स्वरूपानंद सरस्वती के उत्तराधिकारी और रामालय ट्रस्ट के अध्यक्ष अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ट्रस्ट को कठघरे में खड़ा कर दिया। उन्होंने कहा कि भगवान राम के नाम पर ट्रस्ट बनाया गया है इसलिए इसका उद्देशय श्रीराम के आदर्शों की स्थापना है। इस विवाद पर जल्द निष्पक्ष लोगों की जांच कमेटी बनाई जाए और जिन लोगों पर आरोप लगा है, जांच की सच्चाई सामने आने तक उनको हर तरह के दायित्व से मुक्त कर दिया जाए। अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने कहा कि कोई बंद आंखों वाला भी देखेगा तो दो मिनट पहले कोई चीज दो करोड़ की होती है और आठ मिनट बाद आठ करोड़ की हो जाती है, यह नहीं हो सकता। लेकिन आपने कर के दिखा दिया है और आप कहते हैं एकदम सही है। आपको जांच से भागना नहीं चाहिए।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending