अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का निधन, फांसी के फंदे से लटकता हुआ मिला शव

साधु संतों की बड़ी अस्था कही जाने वाली संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरि का निधन हो गया है। उनका निधन प्रयागराज के बाघमबरी मठ में हुआ है, उनकी मौत किस वजह से हुई फिलहाल इस बात का कुछ पता नहीं चल पाया है। लेकिन उनकी अचानक हुई मौत की वजह से साधु संतों में शोक की लहर दौड़ पड़ी है। 

वहीं, अब महंत नरेंद्र गिरी की मौत के बाद उनके शिष्य आनंद गिरि ने बयान जारी कर कहा कि, ”महंत जी की मौत की जांच होनी चाहिए। सच्चाई निकलकर बाहर आनी चाहिए। गुरुजी की हत्या की गई है’। उन्होंने कहा कि, ‘कुछ लोग मेरे और गुरुजी के बीच दरार पैदा करना चाहते थे।” उन्होंने यह भी कहा कि, ‘कुछ लोग महंत नरेंद्र गिरी को घुन की तरह खाने में लग गए थे।’

आनंद गिरि ने कहा कि, ‘बीते दिनों मेरी उनसे बात हुई थी। वे पूरी तरह से स्वस्थ्य हो चुके थे। यहां तक कि उन्होंने कोरोना को भी मात दे दिया था। मैं चाहता हूं कि इस पूरे मसले की गहन तफ्तीश हो, ताकि इसके पीछे की सच्चाई निकलकर सामने आ सकें।’ बहरहाल, स्थिति की संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए पूरे इलाके में सुरक्षाबलों को तैनात कर दिया गया है।

फिलहाल, पुलिस इस पूरे मामले की जांच में जुट चुकी है, लेकिन इस बीच जिस कमरे में महंत नरेंद्र गिरि का फंदे से लटकता हुआ शव मिला है, उस कमरे में सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें उन्होंने कई ऐसी बातें बयां की हैं, जो आने वाले दिनों में जांच में पुलिस के लिए एक अहम कड़ी साबित हो सकती है। आइए, जानते हैं कि आखिर सुसाइड में नोट में ऐसा क्या लिखा है।

दरअसल, सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि ने खुद के मानसिक उत्पीड़न की बात कही है। उन्होंने अपने शिष्य आनंद गिरि पर खुद के मानसिक उत्पीड़न का आरोप लगाया है। बता दें कि ये वही आनंद गिरि है, जिसके साथ महंत नरेंद्र गिरि का लंबा विवाद चला था। पहले विवाद और फिर सुसाइड में आनंद गिरि पर लगा ये आरोप। ये सारी बातें कई सवालें खड़ी करती हैं। 

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइ नोट लिखा है कि, ‘मैं सम्मान के बगैर नहीं जी सकता हूं’। लेकिन, इस पूरे मसले को लेकर किसी भी निर्णय पर पहुंचना जल्दबाजी होगी। उधर, पुलिस ने मामले की गहन तफ्तीश करने हेतु शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का इंतजार है। तभी स्थिति पूर्णत: साफ हो पाएगी। फिलहाल तो यह पूरा मसला हत्या और आत्महत्या के बीच उलझता हुआ नजर आ रहा है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending