नींबू पानी के सिर्फ फायदे ही नहीं बल्कि नुकसान भी हैं…जानिए इसके नुकसान

नींबू पानी स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अच्छा होता है क्योंकि यह हानिकारक विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। नींबू  कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, लोहा और विटामिन ए-सी और विटामिन बी-कॉम्प्लेक्स के साथ-साथ पेक्टिन फाइबर, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट जैसे कई पोषक तत्वों का अच्छा स्रोत है। लेकिन क्या आपको पता है कि नींबू-पानी पीने से स्वास्थ्य को कई गंभीर नुकसान भी पहुंच सकते हैं। वैसे तो नींबू का रस कई तरह से फायदेमंद है लेकिन बहुत अधिक सेवन करने पर सेहत के लिए यह कई तरह से नुकसानदायक भी साबित हो सकता है। दरअसल, नींबू में साइट्रिक एसिड होता है, जिसकी ज्यादा मात्रा शरीर में जाने से यह हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाता है। इतना ही नहीं इसके कारण कई समस्याएं भी होने लगती हैं। इसके साथ ही नींबू अत्यधिक अम्लीय होता है। नींबू पानी पीने के साइड इफेक्ट ज्यादातर इसकी उच्च अम्लीयता की ही वजह से होते हैं, जबकि कुछ साइड इफेक्ट विटामिन सी की ओवरडोज की वजह से भी पाए जाते है। इसलिए हमें नींबू के रस के ज्यादा उपयोग से बचना चाहिए क्योंकि यह हमारे स्वास्थ्य के लिए कई तरीकों से हानिकारक हो सकता है। नींबू पानी पीने के नुकसानों की लिस्ट काफी लंबी है जिसको आप नजरअंदाज भी नहीं कर सकते हैं। 

नींबू में मौजूद पोषक तत्व 
नींबू में विटामिन ए, विटामिन बी 6, विटामिन सी, विटामिन इ, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम, आयरन, फास्फोरस, जस्ता, फोलेट, तांबा, पैंटोथेनिक एसिड, नियासिन थायमिन और कई तरह के प्रोटीन इत्यादि पोषक तत्व होते है। यह पोषक तत्व स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होते है।

नींबू पानी के नुकसान-

दांतों को नुकसान- नींबू पानी के अधिक सेवन से आपको दांतों में दर्द की समस्या हो सकती है इसलिए नींबू कुछ ही बूंद डालें।
पेट में समस्या- अक्सर भारी खाना खाने के बाद लोग नींबू पानी पसंद करते हैं, लेकिन इसमे मौजूद एसिड से आपको पेट दर्द और जलन जैसी समस्या भी हो सकती है। माइग्रेन का डर- इसमें मौजूद तत्व से आपको माइग्रेन की गंभीर समस्या होने लगती है। इसलिए नींबू पानी का सेवन अधिक नहीं करना चाहिए।
हड्‍डियों को नुकसान- जी हां, नींबू पानी पीने के बाद हम ताजगी महसूस करते हैं लेकिन इसमें मौजूद एसिड हड्‍डियों को गला देता है। इससे हड्‍डियां कमजोर होती है। इसलिए कभी- कभी ही इसका सेवन करना चाहिए।
सीने में जलन- नींबू पानी पीने से सीने में जलन की समस्या बहुत जल्दी होती है। जब पेट ठीक नहीं रहता है तब नींबू पानी पीते हैं। इसमें मौजूद एसिड वापस इसोफेगस में चला जाता है जिससे सीने में जलन होने लगती है। 
बार-बार मूत्रत्याग और डिहाइड्रेशन- पानी में बड़ी मात्रा में नींबू का रस शामिल करने से मूत्रवर्धक प्रभावित हो सकता है। नींबू का रस मे एस्कॉर्बिक एसिड और विटामिन सी अधिक होता है जो मूत्रवर्धक होता है। यह गुर्दे में मूत्र उत्पादन को प्रोत्साहित करता है।

हार्टबर्न की समस्या हो सकती है- रोजाना नींबू पानी पीने से हार्टबर्न की समस्या हो सकती है। खासकर अगर आप नियमित रूप से हार्टबर्न का अनुभव करते हैं। हार्टबर्न के सामान्य लक्षणों में दर्द और सीने में गंभीर जलन शामिल हैं।
जीईआरडी और अल्सर हो सकते हैं- जीईआरडी को गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स डिसऑर्डर के रूप में भी जाना जाता है, यह नींबू जैसे अम्लीय खाद्य पदार्थों के सेवन से शुरू होता है। इसके अतिरिक्त, अगर आपको अल्सर है, तो बहुत सारे अम्लीय खाद्य पदार्थ या पेय लेने से आपके स्टॉप लाइनिंग में जलन हो सकती है जो कि हीलिंग प्रक्रिया में बाधा डाल सकती है।
आयरन सामग्री बढ़ा सकते हैं- नींबू विटामिन सी से भरपूर होता है जो आपके शरीर को अत्यधिक आयरन को संग्रहीत करने का कारण बनती है। एक शोध के अनुसार, शरीर में अतिरिक्त आयरन आपके अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए नींबू लेते समय आपको सावधान रहना चाहिए। 

मुंहासों पर प्रभाव – निम्बू में निहित अम्ल आपके मुंहासों पर भी नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है और उनमें से खून बह सकता है। काली त्वचा वाले लोगों को मुँहासे के उपचार के रूप में त्वचा पर नींबू का रस का उपयोग करने से बचना चाहिए क्योंकि यह त्वचा पर काले धब्बे पैदा कर सकता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending