सेहत के लिए वरदान है नींबू की चाय, जानिए इसके अद्भुत फायदे

नींबू की चाय स्वास्थ्य लाभों से परिपूर्ण होती है। यह आपके शरीर को भीतर से शुद्ध करने के लिए जानी जाती है और यह आपको ताजगी और ऊर्जा प्रदान करने में मदद करता है। नींबू की चाय में विटामिन सी होता है, जो बॉडी की इम्यूनिटी बढ़ाता है। लेमन टी दिन में 2 से 3 बार पीना ठीक है, इससे ज़्यादा इसका सेवन ठीक नहीं है। लेमन टी यानी नींबू चाय सेहत के लिए बहुत अच्छी होती है, खासतौर से कोरोना महामारी के प्रकोप से बचाने में यह बहुत सहायक साबित हुई है। नींबू की चाय में साइट्रिक एसिड की मात्रा होने के कारण यह वजन घटाने में भी सहायक होती है। बहुत से लोग तो आज भी सर्दी-जुकाम होने पर नींबू की चाय पीते है ।
नींबू की चाय हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से पीड़ित लोगों के लिए भी बेहद फायदेमंद है। लेमन टी में फ्लेवोनोइड्स नामक केमिकल होते हैं जो धमनियों में ब्लड के थक्के बनने से रोकता है जिससे आपको हार्ट अटैक का खतरा कम रहता है। इसलिए ब्लड प्रेशर की समस्या से पीड़ित लोगों के लिए नींबू की चाय एक बढ़िया विकल्प है।
ऐसे बनाएं नींबू की चाय
सबसे पहले पानी उबालें। अब जैसे ही पानी उबलना शुरू हो उसमें चाय की पत्ती, नींबू का रस और अदरक डाल लें। आप को इसे मीठा बनाना हो तो इसमें शहद भी डाल सकते हैं। इसे आप सुबह के अलावा शाम को भी पी सकते हैं। चाहें तो कोल्ड लेमन टी भी पी सकते हैं, बस ये ध्यान रखें कि इसे गर्मी के मौसम में ही पिएं। लेमन टी में से शरीर में ऊर्जा आती है। 

आइये जानते हैं नींबू चाय के लाभों के बारे में: –

हृदय के लिए लाभकारी – मॉलिक्यूलर न्युट्रिशन और खाद्य अनुसंधान के अनुसार, नींबू चाय हृदय रोगों से सुरक्षा प्रदान करती है। नींबू चाय में फ्लेवोनोइड होते हैं जो लिपिड और सूजन को कम करते हैं और धमनियों में रक्त के थक्कों के गठन को रोकते हैं। इस प्रकार, नींबू चाय हृदय रोग का मुकाबला करने का एक शानदार तरीका है। 

बॉडी डिटॉक्सिफिकेशन के लिए – यह नींबू चाय के अधिकांश स्वास्थ्य लाभों में से एक है। यह आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालकर शुद्ध करने में मदद करता है। ये विषाक्त पदार्थ विभिन्न प्रकार के रोगों और संक्रमणों का कारण बनते हैं। एक बहुत ही अच्छा डिटॉक्सिफ़ाइर जो विभिन्न बीमारियों और संक्रमणों को रोकने में मदद करता है। 
जुकाम का इलाज – नींबू चाय जुकाम और फ्लू के लक्षणों से राहत में सहायक होता है। यह न केवल ख़राब गले से राहत देता है, बल्कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करता है और सर्दियों के दौरान आपको गर्माहट देती है। यह चाय आपके गले में से बलगम को दूर करने में मदद करता है। गर्म पानी में शोरबा, चाय या नींबू का रस और शहद जैसे गर्म तरल पदार्थ, आपके गले को शांत करने में मदद कर सकते हैं। 
मानसिक स्वास्थ्य के लिए – यह आपके शरीर को सक्रिय रखती है, आपके दिमाग को ताज़ा करती है और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करती है। तनाव रक्त के विषाक्त पदार्थों को पैदा करने के लिए जिम्मेदार होता है जो विभिन्न मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को ट्रिगर करता है। नींबू चाय सिरदर्द, कमजोरी, कम जीवन शक्ति, सुस्ती और थकान के लिए एक बहुत ही अच्छा उपाय है। यह आपके रक्त को शुद्ध करके आपको सक्रिय और स्वस्थ रखता है। 

हृदय के लिए लाभकारी – मॉलिक्यूलर न्युट्रिशन और खाद्य अनुसंधान के अनुसार, नींबू चाय हृदय रोगों से सुरक्षा प्रदान करती है। नींबू चाय में फ्लेवोनोइड होते हैं जो लिपिड और सूजन को कम करते हैं और धमनियों में रक्त के थक्कों के गठन को रोकते हैं। इस प्रकार, नींबू चाय हृदय रोग का मुकाबला करने का एक शानदार तरीका है। 

पाचन को स्वस्थ रखने में सहायक – नीबू चाय में शांत करने वाले गुण होते हैं जो पाचन को स्वस्थ रखने में सहायक होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह विषाक्त पदार्थों और अपशिष्ट पदार्थों को समाप्त करता है और यह आपके शरीर को उसमें मौजूद अधिक लाभकारी पदार्थों को अवशोषित करने में सक्षम बनाता है। नींबू में साइट्रिक एसिड होता है जो पाचन में सहायक और गुर्दे की पथरी को पिघलाने में मदद करता है, जबकि एस्कॉर्बिक एसिड एक प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट है जो स्कर्वी को रोकता है। 

एडेमा का इलाज – सर्जिकल स्वेलिंग या एडिमा एक सामान्य समस्या है जो किसी भी ऑपरेशन के बाद हो सकती है। यह समस्या इंजेक्शन, फैट की मृत कोशिकाओं और रक्त में तरल पदार्थ जमा होने के कारण होती है। इस चाय को अक्सर सूजन की समस्या को कम करने के लिए उपयोग किया जाता है। इसके अलावा, नींबू चाय अनेस्थेसिआ के विषाक्त प्रभाव को भी समाप्त करती है और यह महिलाओं के मासिक चक्र के दौरान दर्द को कम करती है। 
डायबिटीज के लिए – हमारे शरीर को ग्लूकोज या चीनी को ऊर्जा में बदलने के लिए इंसुलिन की आवश्यकता होती है। कृषि और खाद्य पत्रिका के जर्नल द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार इस चाय को इंसुलिन गतिविधि को बढ़ाने के लिए असरदर पाया गया है। इसलिए जो लोग शुगर (मधुमेह) से पीड़ित हैं उनको इसका सेवन करना चाहिए।

त्वचा के लिए – हम सभी त्वचा के लिए विटामिन सी के लाभों के बारे में जानते हैं। नींबू में कसैले या एस्ट्रिंजेंट गुण होते हैं जो आंतरिक रूप से मुंहासे और अन्य त्वचा विकारों को कम करने में मदद करते हैं। इस प्रकार, नींबू की चाय का मुकाबला विभिन्न त्वचा विकारों में मदद कर सकता है। तो आज से ही इस चाय का सेवन शुरू कर दीजिये। 

कैंसर के इलाज में – नींबू की चाय और नींबू में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। इस चाय में पॉलीफेनॉल्स और विटामिन सी की एक प्रचुर मात्रा पाई जाती है। नींबू की चाय के कैंसर को रोकने वाले गुण त्वचा के कैंसर की संभावना को कम करते हैं। इसके अलावा, नींबू में लिम्नोओड्स नामक यौगिक भी पाया जाता है जो मुंह के कैंसर, फेफड़े के कैंसर और पेट के कैंसर से लड़ने में मदद करता है। 

नींबू की चाय के नुकसान – 
• नींबू चाय आम तौर पर बच्चों के लिए उपयुक्त नहीं है।
• इससे छाती में जलन और कभी-कभी उल्टी हो सकती है।
• लेमन टी के अत्यधिक सेवन से गर्भपात या अन्य गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
• गर्भवती महिलाओं और स्तनपान करा रही महिलाओं को नींबू चाय के सेवन से बचा जाना चाहिए।
• हाई बीपी (उच्च रक्तचाप) वाले लोगों को नींबू चाय के नियमित सेवन से बचना चाहिए।
• लेमन टी का बार-बार सेवन करना खतरनाक साबित हो सकता है और शरीर में निर्जलीकरण का कारण बन सकता है।
• लेमन टी के नियमित सेवन से मस्तिष्क में पट्टिका का संचय हो सकता है, जो अल्जाइमर की शुरुआत से जुड़ा हुआ है।
• कुछ लोगों में, नींबू चाय के नियमित सेवन से पेट में दर्द, दस्त, चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम और यहां तक कि अल्सर भी हो सकता है। • दस्त या इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (irritable bowel syndrome) के मामले में नींबू की चाय का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। 
• नींबू चाय आपके दांतों के लिए एक साइलेंट किलर हो सकती है, जिससे आपके दांतों में तेज दर्द और तापमान में तेज बदलाव के प्रति संवेदनशीलता हो सकती है।
• बहुत अधिक नींबू की चाय पीने से श्लेष्म झिल्ली में जलन हो सकती है और संभावित रूप से नासूर घाव हो सकते हैं। नींबू की चाय आपके मुंह में कहर ढा सकती है।
• नींबू की चाय चुपचाप मूत्र के माध्यम से शरीर से कैल्शियम की बड़ी मात्रा को बाहर निकालती है, जिससे जीवन के बाद के चरणों में ऑस्टियोपोरोसिस हो सकता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending