यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में नींबू बहुत ही ज्यादा असरदार है एक बार आपको जरूर जानना चाहिए फायदा

यूरिक एसिड बढ़ने की समस्या आजकल लोगों में आम देखने को मिलती है। इससे शरीर के अंगों में सूजन आ जाती है। गलत खान-पान की वजह से शरीर में यूरिक एसिड बढ़ जाता है। 

आपको ये भी जानना चाहिए कि यूरिक एसिड होता क्या है और ये बनता कब है 

एक अपशिष्ट बायप्रोडक्ट है । ये बनता है शरीर में सेवन

खराब लाइफस्टाइल और खानपान के कारण, यूरिक एसिड की समस्या का सामना अधिकतर लोगों को करना पड़ रहा है। 

यह तब बनता है जब आपका शरीर प्यूरीन को तोड़ता है, जो कुछ खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। 

आपके गुर्दे (kidney), मूत्र के माध्यम से यूरिक एसिड को फ़िल्टर करने के लिए जिम्मेदार हैं। जिन खाद्य पदार्थों में प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है, उनके सेवन से यूरिक एसिड का निर्माण भी अधिक होता है शरीर में प्यूरीन नामक प्रोटीन अधिक बन जाता है तो यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है। जब शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाती है तो किडनी के फिल्टर करने की क्षमता कम हो जाती है जिसके कारण यह हड्डियों के बीच जमा होने लगता है। जिससे खून में भी यूरिक एसिड का लेवल बढ़ जाता है। 

मांसपेशियों में सूजन, जोडों में दर्द की समस्या हो जाती है। ऐसे में जरूरी हैं कि इसे समय रहते कंट्रोल किया जाए। यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए कई उपाय अपनाते हैं। ऐसे में आप चाहे तो नींबू का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

जानिए कैसे करें नींबू का इस्तेमाल – k

. यूरिक एसिड को कम करने के लिए नींबू भी बहुत फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद सिट्रिक एसिड प्राकृतिक तरीके से यूरिक एसिड को कम करता है। ऐसे में 1 गिलास पानी में आधा नींब डालें और दिन में 2 बार इसका सेवन करें।

प्रयोग

नींबू, यूरिक एसिड के स्तर को संतुलित करने में अत्यधिक सहायक है क्योंकि यह शरीर को क्षारीय 

बनाता है। आप एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़ कर बार-बार पी सकते हैं। यह पूरी तरह से सुरक्षित है और आपके दिन में नींबू पानी पीने के कोई दुष्प्रभाव नहीं हैं।

आप एक आधा नींबू और सेब के सिरके को गर्म पानी में मिलाकर एक रस बना सकते हैं। इसको 2 चम्मच हल्दी और थोड़े से  कुचले अदरक के साथ मिलाएं। शहद का थोड़ा सा उपयोग करें। आप इसे प्रति दिन दो से तीन बार पी सकते हैं।

More articles

- Advertisement -

ताज़ा ख़बरें

Trending