कंगना रनौत ने आजादी को बताया भीख, वरुण गांधी ने सुनाई खरी खोटी, कांग्रेस ने की पद्म श्री वापस लेने की मांग, आप पार्टी ने दर्ज कराई शिकायत

हमेशा विवादो से घिरी रहने वाली बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत ने एक बार फिर से विवादित बयान देकर सियासत तेज कर दी है। दरअसल गुरुवार को कंगना ने टाइम्स नाउ चैनल से जुड़े एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि भारत को 2014 में असली आजादी मिली, जब पीएम मोदी सत्ता में आए। 1947 में मिली आजादी या दशकों के स्वतंत्रता सेनानियों के संघर्ष को एक्ट्रेस कंगना रनौत ने ‘भीख’ बताया था। इस बीच अब महिला कांग्रेस ने कंगना के इस बयान को लेकर आपत्ति जताई है। साथ ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से कंगना का पद्मश्री अवार्ड वापस लेने की मांग की है। 

महिला कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष नेटा डिसूजा ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखा है। जिसमे उन्होंने लिखा, ” कंगना रनौत ने स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान करने, संविधान का अपमान करने और स्वतंत्रता आंदोलन का मजाक उड़ाया। ऐसे में उन पर उचित कार्रवाई की जाए और उनसे पद्म श्री वापस लिया जाए।” इससे पहले मुंबई की आप नेता प्रीति शर्मा मेनन ने भी कंगना रनौत के खिलाफ मुंबई पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। कंगना रनौत कथित रूप से देशद्रोही और भड़काऊ बयान देने का आरोप लगाया।

वहीं भाजपा सांसद वरुण गांधी ने भी कंगना के इस बयान पर उन्हें जमकर फटकार लगाई है। उन्होंने कंगना का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, “कभी महात्मा गांधी जी के त्याग और तपस्या का अपमान, कभी उनके हत्यारे का सम्मान, और अब शहीद मंगल पाण्डेय से लेकर रानी लक्ष्मीबाई, भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और लाखों स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बानियों का तिरस्कार। इस सोच को मैं पागलपन कहूं या फिर देशद्रोह?”

दूसरी तरह फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने भी कंगना रनौत पर निशाना साधते हुए कहा, “सम्मानित नरेंद्र मोदी जी अब जब सरकार की चहेती अभिनेत्री ने कह ही दिया है कि भारत को आज़ादी आपके सत्तारूढ़ होते ही 2014 में मिली है, तो लगे हाथ मोदी सरकार की इस पसंदीदा सिने तारिका को भारत रत्न भी दे ही डालिए। मैडम के टैलेंट के आगे पद्म श्री कुछ बौना सा लग रहा है।”

उन्होंने आगे कहा, “सच तो ये है कि 2014 में आज़ादी नहीं, भारत को ग़ुलामी मिली है। लिस्ट बना कर देख लीजिए, तक़रीबन संवैधानिक हर संस्था गुलाम हो चुकी है। पत्रकार-मीडिया रेंग रही हैं, सिनेमा जगत ख़ौफ़ में है, उद्योगपति आतंकित हैं, क़ानून और न्याय का राज़ ख़त्म हो चुका है। संविधान रोज़ रौंदा जा रहा है।” वहीं रिटायर्ड आईपीएस विजय शंकर सिंह ने कहा, कंगना रनौत के अनुसार उन्हें आज़ादी भीख में मिली है। कंगना के इस रहस्योद्घाटन पर भारतरत्न देना चाहिए, पद्मश्री कम है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending