क्या अर्धचंद्र आपके भी नाखूनों में बनता है ? जानिए इसके पीछे की क्या है वजह !

दरअसल, हमारा शरीर किसी भी प्रकार की दिक्कत होने पर अलग-अलग तरह से रिएक्ट करता है। इस वजह से हमारे शरीर में तरह-तरह के बदलाव होते रहते हैं। इसी सिलसिले में आज हम आपको हमारे शरीर में होने वाले एक ऐसे बदलाव के बारे में बताने जा रहे हैं, जो काफी महत्वपूर्ण है। यह बदलाव हमारे शरीर में होने वाली कई दिक्कतों के बारे में संकेत देते हैं, जिन्हें नजरअंदाज न करते हुए तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

आपने कई बार अपने हाथो की उंगली के नाखूनों पर बने अर्धचंद्र पर गौर किया होगा। इसका रंग सफेद होता है और यह लगभग हर इंसान की उंगली में जरूर होता है पर क्या आपने कभी इसके बारे मे सोचा है की यह क्यों होता है?? और सिर्फ कुछ ही उंगलियों के नाखूनो मे क्यों होता है?

नाखून हमारे उंगलियों की सबसे नाजुक त्वचा होती है। यूं तो हर इंसान के नाखून अलग अलग ही होते हैं। इसके अलावा कोई लोगों के नाखून पर आधा चांद भी बना होता है। आज हम आपको नाखून के नीचे बनने वाले इसी आधे चांद के बारे में बताने जा रहे हैं कि ये हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना अहम है?

तो चलिए जानते है क्या है इसके पीछे की वजह…

स्वास्थ्य की ओर देता है संकेत

  • 1. इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति के नाखून में दिखने वाला लुनुला सफेद के बजाए पीला या नीला दिखे तो मतलब वह डायबिटीज का भी शिकार हो सकता है।
  • 2. नाखून में बना होने वाला ये चांद हमारे स्वास्थ्य को लेकर कई तरह के संकेत देता है। अगर नाखून में बना आधा चांद सफेद और साफ है तो समझिए आप बिल्कुल ठीक और स्वस्थ हैं।
  • 3. कई लोगों में लुनुला का रंग लाल पाया जाता है। ऐसे लोगों को हृदय से जुड़ी दिक्कतें हो सकती है।
  • 4. जिन लोगों के नाखून में ये लुनुला यानी अर्धचंद्र बिल्कुल नहीं दिखाई देता तो ये चिंता का विषय हो सकता है। दरअसल, शरीर में खून की कमी की वजह से लुनुला नहीं दिखाई देता।

आमतौर पर अंगूठे पर बना चांद बिल्कुल साफ दिखाई देता है जबकि अन्य उंगलियों पर ये हल्का, बहुत हल्का या फिर न के बराबर दिखाई देता है। ये चांद आपके हाथों की जितनी ज्यादा उंगलियों पर दिखाई देगा मतलब समझिए वह उतना स्वस्थ है। ध्यान रहे लुनुला के बारे में आपको इतना समझना होगा कि यदि ये सफेद रंग का है तो ठीक है। इसके अलावा ये आपके नाखून में नहीं है या फिर सफेद के अलावा किसी और रंग का है तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए।

नोट: यह लेख सिर्फ आपकी सामान्य जानकारी प्रदान करती है। ये किसी योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। इसलिए ध्यान रहे इन पर अमल करने से पहले किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर की सलाह एक बार अवश्य लें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending