क्या गुजरात में खत्म हो चुका है आरक्षण?? जानिए वायरल दावे की सच्चाई

पिछ्ले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर आरक्षण को लेकर एक फर्जी पोस्ट जमकर वायरल हो रहा है जिसमे दावा किया जा रहा है गुजरात में आरक्षण खत्म हो चुका है। जबकि गुजरात हाई कोर्ट ने प्रदेश में आरक्षण खत्म करने को लेकर कोई फैसला नहीं सुनाया है। वायरल हो रहा दावा पूरी तरह फर्जी है। आइए जानते है क्या है वायरल पोस्ट और उससे जुड़ी सच्चाई।

वायरल हो रहा दावा

फेसबुक यूजर Ayush Negi ने 23 जून 2021 को वायरल पोस्ट शेयर किया जिसमे उन्होंने लिखा कि गुजरात हाई कोर्ट ने ऐतिहासिक निर्णय लिया है और गुजरात देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है, जहां आरक्षण को पूरी तरह खत्म कर दिया गया है। दावे के मुताबिक, नौकरी और पढ़ाई, दोनों से ही आरक्षण को खत्म कर दिया गया है। वहीं फेसबुक यूजर Manish Sharma और Anil Pandya ने भी इससे मिलता-जुलता दावा शेयर किया है। 

वायरल दावे की सच्चाई
हमने सबसे पहले इंटरनेट पर ओपन सर्च के माध्यम से इस वायरल दावे की सच्चाई जानने की कोशिश की। अगर गुजरात हाई कोर्ट ने प्रदेश में आरक्षण खत्म करने का फैसला दिया होता, तो यह एक राष्ट्रीय मुद्दा होता और तमाम मीडिया हाउस इसे रिपोर्ट जरूर करते। हमें ऐसी कोई प्रामाणिक रिपोर्ट नहीं मिली, जो इस वायरल दावे की पुष्टि करती हो। आगे की पड़ताल के लिए हमने गुजरात हाई कोर्ट की आधिकारिक वेबसाइट का रुख किया। हमें वेबसाइट पर वायरल दावे की पुष्टि करने से जुड़ा कोई प्रमाण नहीं मिला। 

वायरल पोस्ट में दावा किया गया है कि सिर्फ नौकरी ही नहीं, बल्कि शिक्षा में आरक्षण को खत्म कर दिया गया है। इस दावे के उलट हमें गुजरात यूनिवर्सिटी की वेबसाइट पर पीजी फिजियोथेरेपी कोर्स में एडमिशन की मेरिट लिस्ट मिली, जिसमें आरक्षण के हिसाब से अभ्यर्थियों की रैंकिंग दी गई है। अगर गुजरात में आरक्षण समाप्त करने का दावा सही होता, तो गुजरात हाई कोर्ट में प्राइवेट सेक्रेटरी की नियुक्ति या गुजरात यूनिवर्सिटी एडमिशन लिस्ट में आरक्षण का जिक्र नहीं होता। 

गुजरात स्टेट ब्यूरो चीफ शत्रुघ्न शर्मा ने इसे फर्जी बताते हुए कहा, “गुजरात उच्च न्यायालय ने गुजरात सरकार की एक विभागीय भर्ती के मामले में आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को आरक्षित वर्ग में ही समाहित करने का फैसला दिया था, जिसको इस मैसेज में पूरे आरक्षण की ही समाप्ति बताकर पिछले 6 साल से वायरल किया जा रहा है।”

निष्कर्ष: हमारी पड़ताल में यह साफ हो चुका है की गुजरात में आरक्षण खत्म होने का दावा पूरी तरह फर्जी है। गुजरात हाई कोर्ट ने प्रदेश में आरक्षण खत्म करने को लेकर कोई फैसला नहीं सुनाया है। 

CLAIM REVIEW : गुजरात में हाई कोर्ट ने आरक्षण को पूरी तरह से खत्म कर दिया है।
CLAIMED BY : फेसबुक यूजर Ayush Negi
FACT CHECK : False

किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमसे संपर्क करें

अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं।
वॅाट्सऐप नंबर/ टेलीग्राम नंबर+919810553618ईमेलV3newsindia@gmail.comआप हमसे हमारे ईमेल आईडी V3newsindia@gmail.com या फिर वॅाट्सऐप / टेलीग्राम नंबर +919810553618 के जरिए संपर्क कर सकते हैं। किसी भी सुझाव या शिकायत के लिए V3newsindia@gmail.com पर ईमेल भेजें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending