आंध्र प्रदेश के इनोवेटर ने विकसित किए समकालीन ऐतिकोप्पका खिलौने, प्राकृतिक रंगों का किया इस्तेमाल

नई दिल्ली, 02 नवम्बर (विज्ञान एवम प्रौद्योगिकी मंत्रालय): विशाखापट्टनम, आंध्र प्रदेश के ऐतिकोप्पका ग्राम के इनोवेटर श्री सी.वी.राजू ने विभिन्न प्रकार के ऐतिकोप्पका खिलौने विकसित किए हैं, जिनका भारत और विदेश में धीरे-धीरे बाजार बढ़ रहा है। ऐतिकोप्पका खिलौने गोलाकार होते हैं और प्राकृतिक रंगों के इस्तेमाल से बनाए गए हैं। यह बच्चों के लिए भी पूरी तरह सुरक्षित है।

स्थानीय खिलौनों का खोया हुआ वैभव वापस लाने वाले ऐतिकोप्पका खिलौनों पर किए गए उनके इस कार्य के लिये, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 68वें मन की बात कार्यक्रम में श्री राजू की प्रशंसा की है। श्री सी वी राजू ने पौधों के स्रोतों और उनकी जड़ों, छाल, तनों, पत्तियों, बीजों आदि में लेड मुक्त रंगों की खोज भी की। उनके प्रयोग प्राकृतिक डाई शाही लाल और नीला सहित विविध रंगों पर केंद्रित है। 

राजू ने “पद्मावती एसोसिएट्स” नाम से शिल्पकारों का एक सहकारी संगठन भी शुरू किया, जिससे उपयुक्त बाजारों तक नए रंग पहुंच सकें। उन्होंने वानस्पतिक रंग बनाने की स्थानीय परम्पराओं को मजबूत बनाने, डाइ का जीवनकाल बढ़ाने के लिए नए उपकरण और तकनीक के विकास की रणनीति के साथ से काम किया। 

एक अवधि के दौरान, कई हर्बल रंगों की आपूर्ति बढ़ गई, जिससे शिल्पकारों के लिए स्थितियां आसान हो रही हैं। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार की एक स्वायत्त संस्था नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन (एनआईएफ)- इंडिया ने कार्यशील पूंजी की जरूरतों को पूरा करने के लिए माइक्रो वेंचर इनोवेशन फंड (एमवीआईएफ) के माध्यम से राजू को वित्तीय समर्थन दिया। 

श्री सी वी राजू को पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए पी जे अब्दुल कलाम ने दूसरे द्विवार्षिक नेशनल ग्रासरूट्स इनोवेशन एंड आउटस्टैंडिंग ट्रेडिशनल नॉलेज अवार्ड से सम्मानित किया था। वर्ष 2018 में, उन्हें राष्ट्रपति भवन द्वारा आयोजित इनोवेशन स्कॉलर-इन-रेजिडेंस कार्यक्रम के 5वें बैच में आमंत्रित किया गया था। उन्होंने डीएसटी द्वारा आयोजित, जमीनी स्तर के इनोवेटर्स के लिए अपने नवाचारों को प्रदर्शित करने के लिए सबसे बड़े वार्षिक मंच फेस्टिवल ऑफ इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप में भी भाग लिया है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending