अगर आप भी मोबाइल जेब में रखते है तो हो जाए सावधान, घट सकती है यौन क्षमता

क्या आप भी उन लोगो में शामिल है जो अपना मोबाइल रात दिन अपनी जेब में रखते है? अगर इसका जवाब हां है तो तुरंत सतर्क हो जाएं और अपनी इस आदत को आज ही बदल दें। हेल्थ एक्सपर्ट्स की माने तो अगर आप अपनी जेब में ज्यादा देर तक अपना सेलफोन रखते हैं, तो इससे आपके शरीर पर रेडिएशन से होने वाला खतरा बढ़ जाता है। यह आपके बैग में रखे मोबाइल से होने वाले नुकसान से दोगुना से लेकर सात गुना तक असर डाल सकता है।

मोबाइल रेडिएशन का बुरा असर व्यक्ति के डीएनए स्ट्रक्चर पर पड़ने के साथ दिल को भी नुक्सान पहुंचता है। 
फर्टिलिटी एक्सपर्ट्स ने चेताया है कि जो शख्स एक दिन में कम से कम एक घंटा भी मोबाइल फोन इस्तेमाल कर रहा है उसका स्पर्म नष्ट हो रहा है या फिर उनके स्पर्म की क्वॉलिटी में भी भारी गिरावट आ रही है। एक स्टडी के मुताबिक, मोबाइल का अधिक इस्तेमाल ना सिर्फ आपके स्वास्‍थ्य के लिए खतरनाक है बल्कि पुरुषों में नपुंसकता की समस्या भी पैदा कर रहा है। 

एक्सपर्ट की मानें तो, पेंट की जेब में मोबाइल रखने से रेडिएशन व्यक्ति की पेल्विक बोन्स को कमजोर और घनत्व को कम करती है। पुरुषों के स्पर्म की क्वॉलिटी में भारी गिरावट की मुख्य वजह यह भी बताई जा रही है कि ज्यादतर पुरुष अपना मोबाइल फोन अपनी थाई के पास रखते हैं। इतना ही नही जनरल रिप्रोडक्टिव बायोमेडिसिन में पब्लिश हुई रिपोर्ट की मानें तो अगर आप अपना फोन बिस्तर के बगल में रखी हुई टेबल पर भी रखते हैं तब भी उसका असर आपकी स्पर्म की गुणवत्ता पर पड़ता है।  

क्लीवलैंड क्लिनिक फाउंडेशन द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार, सेल फोन के अधिक इस्तेमाल की वजह से शुक्राणुओं की संख्या के साथ वीर्य की गुणवत्ता भी कम हो जाती है। अध्ययन में सेल फोन का रोजाना 4 घंटे से ज्यादा जेब में रखने का सबंध अपरिपक्व शुक्राणुओं से जुड़ा हुआ पाया गया है। इसके अलावा, सेलफोन का अधिक उपयोग पुरुषों में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने वाले डीएनए को भी नुकसान पहुंचाता है। कई शोधकर्ताओं ने यह भी पाया है कि मोबाइल का अधिक इस्तेमाल करने वाले मध्यम और उच्च आयु वर्ग के 14 प्रतिशत जोड़ों ने गर्भधारण करने में कठिनाई का अनुभव किया है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending