अगर आपको भी आता है बेवजह गुस्सा तो हो जाइए अलर्ट…इस ओर करता है इशारा

अक्सर प्यार सबके जीवन में महत्वपूर्ण है, बिना प्यार के कोई भी जीवन यापन नहीं कर सकता। जिन लोगों को प्यार की ज्यादा जरूरत होती है और उन्हें प्यार नहीं मिल पाता तब जाहिर है की इंसान को गुस्सा आएगा ही। दरअसल, गुस्सा और क्रोध हमारे ज़िंदगी का ही हिस्सा है। गुस्सा आना इंसान की भावनाओं से जुड़ा है। थोड़ा बहुत गुस्सा तो सबको ही आता है, लेकिन अगर आपको बहुत ज्यादा गुस्सा आता है और ज्यादा देर तक रहता है तो यह आगे चल कर कोई समस्या का रूप भी धारण कर सकती है। अधिक क्रोधित इंसान को बहुत सारी परेशानियां हो सकती है। यह आपको शारीरिक और मानसिक नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे में आपके लिए सबसे जरूरी यह है कि जान लें आख़िरकार गुस्सा बढ़ क्यों रहा है?

ज्यादा गुस्सा आने के पीछे एक कारण बहुत अधिक सोना भी हो रहा है। मनोैज्ञानिक के अनुसार, जो लोग बहुत देर तक सोते हैं, इसके पीछे का कारण उनका अकेलापन महसूस करना या खालीपन हो सकता है। मानसिक तानव के चलते लोग अकेला रहना और अधिक लेटना पसंद करते हैं। ऐसे में आपके हार्मोनल डिसबैलेंस हो सकते हैं। इसके अलावा ज्यादा क्रोधित इंसान या तो बहुत देर तक सोता है या उसकी नींद पूरी नहीं होती। नींद पूरी न होना और गुस्से का गहरा संबंध है। क्योंकि नींद पूरी ना होने पर हर किसी कि थकान महसूस होती है। अनिंद्रा के कारण लोगों को तानव होने लगता है जिससे उनके गुस्से का लेवल हाई हो जाता है। इस वजह से छोटी छोटी बातों पर जल्दी गुस्सा आ जाता है।
डॉक्टर्स के मुताबिक, जिन लोगों का ब्लड प्रेशर लो रहता है उन्हें भी जल्दी गुस्सा आता है। गुस्सा शारीरिक कमजोरी की निशानी है। इसी के विपरीत बीपी हाई होने की वजह से इंसान को जल्दी घबराहट के साथ गुस्सा आने लगता है।

आइए जानते हैं कि किन खतरनाक बीमारियों के प्रारंभिक लक्षणों में ज्यादा गुस्सा आना अथवा चिड़चिड़ापन शामिल है –

उच्च रक्तचाप- अगर किसी व्यक्ति को जरूरत से अधिक गुस्सा आता है तो इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए। ऐसा हाई बीपी की वजह से हो सकता है। इसके अलावा, हांफना, जल्दी थक जाना, जरूरत से ज्यादा वजन या फिर अधिक पसीना आना भी हाई बीपी के लक्षण हो सकते हैं।
हाई ब्लड शुगर- डायबिटीज के शुरुआती लक्षणों में भी मूड स्विंग्स देखा जा सकता है। चिड़चिड़ापन या फिर ज्यादा गुस्सा शरीर में ब्लड शुगर बढ़ने के कारण भी आ सकता है। बता दें कि पैन्क्रियाज से निकलने वाला हार्मोन इंसुलिन जब शरीर में कम मात्रा में प्रोड्यूस होने लगता है तो इससे लोगों का बर्ताव भी प्रभावित होता है।
बर्न आउट- ये बीमारी ज्यादा काम करने, स्ट्रेस लेने या फिर कम नींद लेने के कारण होती है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक कई लोग अपनी रोजमर्रा की व्यस्त जीवन के कारण थका हुआ या फिर अधिक परेशान महसूस करते है जो बर्न आउट नामक बीमारी का रूप ले लेता है। इस बीमारी से पीड़ित लोगों को बात-बात पर गुस्सा आ जाता है।
थायरॉयड- शरीर के जरूरी ग्लैंड थायरॉयड में से थायरॉक्सिन नामक हार्मोन निकलता है जो शारीरिक गतिविधियों को पूरा करने के लिए आवश्यक होता है। जब शरीर में ये हार्मोन पर्याप्त मात्रा में नहीं निकल पाता है तो लोग हाइपोथायरॉयड से पीड़ित हो जाते हैं। वहीं, इस हार्मोन की कमी से भी लोगों को अधिक गुस्सा आ सकता है।

ऐसे रखें खुद पर नियंत्रण
हेल्दी ईटिंग किसी भी परेशानी से निजात पाने के लिए बहुत जरूरी है। ज्यादा देर भूखे रहने से भी लोगों में चिड़चिड़ाहट बढ़ती है, ऐसे में समय पर खाना खाएं। पूरी नींद लें और अपनी दिनचर्या में ध्यान, प्राणायाम और व्यायाम को शामिल करें। उस बारे में न सोचें जिसके कारण आपको गुस्सा अधिक आता हो। खूब मुस्कुराएं और परिवार के साथ अधिक समय बिताएं। स्मोकिंग व शराब के सेवन से दूर रहें। स्ट्रेस कम लें और कोशिश करें कि ऑफिस की बातों को वहीं तक सीमित रखें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending