सैकड़ों की मजहबी भीड़ ने हिंदू परिवारो पर बोला हमला, दर्ज मुकदमा वापस ना लेने पर घर की बहन बेटियों की इज्जत लूटने की दी धमकी

झारखंड (Jharkhand) की राजधानी रांची से एक दिल दहलाने वाली खबर सामने आयी है। जिसके कारण रांची (Ranchi) के हिंदपीढ़ी इलाके में रहने वाले हिंदू परिवार रात दिन डर के साये में जीने के लिए मजबूर है। दरअसल, शनिवार (29 मई 2021) को सैकड़ों की मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू परिवार के घर पर हमला बोल दिया। जिसमे परिवार के सभी सदस्यों को काफी चोटें भी आई है और कुछ हॉस्पिटल में भर्ती है। इसके साथ बदमाशो ने पीड़ित हिंदू परिवार से दर्ज मुकदमा वापस लेने की चेतावनी दी है। ऐसा ना करने पर कट्टरपंथियों ने उनके घर परिवार की बेटियो और एक 14 वर्षीय नाबालिग को अगवा कर बलात्कार करने की धमकी दी है। इस घटना के बाद से ही आस पास के सभी इलाकों मे तनाव का माहौल बना हुआ है। आलम यह है की इलाके मे रह रहे सभी हिंदू परिवार अपने अपने घरों में कैद हो गए है।

जानकारी के मुताबिक, हमलावरों की संख्या करीब साढ़े तीन सौ (350) बताई जा रही है। शनिवार (29 मई 2021) को हुए हमले ने पीड़ित घर में मौजूद 14 वर्षीय बच्ची पर इतना गहरा असर डाला है की अब बच्ची डिप्रेशन का शिकार हो चुकी है। पिछले साल छेड़खानी का शिकार होने के बाद से नाबालिग बच्ची ने स्कूल जाना छोड़ दिया था और अब हाल ही में हुई घटना के बाद से बच्ची जहर खाकर आत्महत्या करने की बात कह रही है। परिवार को बार-बार धमकी दी जा रही है कि केस वापस ले लो नहीं तो तुम्हारी बेटी को उठा लेंगे। फिलहाल परिवार ने बेटी को कहीं और भेजा हुआ है।

बता दें की राँची का यह हिंदपीढ़ी इलाका 95 फीसदी मुस्लिम बहुल इलाका है, पुलिस को सारी जानकारी होने के बाद भी पुलिस ने अभी तक आरोपियों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया है। पुलिस के इस ढ़ीले और गैर जिम्मेदाराना वजह से इलाके में रहने वाले हिंदू परिवार भी डरे सहमे हुए है और अपने घरों मे कैद होने के लिए मजबूर है।

रांची की मेयर आशा लकड़ा ने कहा, ‘ हमने पीड़ित परिवार से मुलाकात की, हम हर तरह से परिवार को सुरक्षा मुहैया करवाले की कोशिश करेंगे।’ उन्होंने मौजूदा हेमंत सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि हेमंत सरकार के राज में पूरे सूबे में अपराध चरम पर है पुलिस भी सरकार के इशारे पर काम कर रही है। महिलाएं झारखंड में सुरक्षित नहीं है 20 नवंबर से 2021 तक 1400 महिलाओं का बलात्कार हुआ लेकिन कितने मामलों को दबा दिया गया तो कई मामले सामने ही नहीं आये।

ये है मामला
असल में मामला मई 2020 का है जब हिंदपीढ़ी इलाके में रहने वाले विवेक श्रीवास्तव की बेटी के साथ मुस्लिम समुदाय के लड़कों ने छेड़खानी की। जिसके बाद परिवार की तरफ से दिसंबर के महीने में FIR दर्ज कराई गई थी और उसके आधार पर मुख्तार के बेटे सहित चार लड़कों को गिरफ्तार किया गया था। जिसके फलस्वरूप मुसलमानों की एक बड़ी संख्या ने शनिवार (29 मई 2021) को पीड़ित हिंदू परिवार पर हमला बोलते हुए पीड़ित परिवार को एफआईआर (F.I.R) वापस लेने की धमकी दी है ऐसा ना करने पर परिवार की बहन बेटियों की इज्जत और आबरू लूटने की चेतावनी भी दी है।

एक तरह हम बेटी बचाओ के नारे लगाते है तो दूसरी तरह हमारे ही देश भारत के कई हिस्सों में महिलाओं, और छोटी छोटी बच्चियों के साथ आए दिन छेड़खानी, शोषण और दुष्कर्म के मामले सामने आते है। इन सब के बाद भी हमारे देश का प्रधानमंत्री लालकिले की प्राचीर पर 56 इंच का सीना लेकर ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ का नारा लगाते है। एक तरह यूपी, बंगाल, दिल्ली, महाराष्ट्र तो एक तरह झारखंड, छत्तीसगढ़ कहीं महिलाओं से यौन शोषण थामते नजर नही आ रहे है। बंगाल में जिस दरिंदगी से महिलाओं का बलात्कार हुआ है उसकी तस्वीरें देख आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे और इसी रास्ते पर अब झारखंड भी बढ़ता जा रहा है। सोचिए जरा एक 14 साल की मासूम बच्ची अपनी पढ़ाई लिखाई छोड़ कर कुछ जिहादियों के डर से घर में कैद हो गयी है और सरकार के नुमाइंदों को इसकी खबर तक नहीं है, न ही ये खबर मीडिया की सुर्खियों में हैं, V3 NEWS INDIA ऐसा पहला प्लेटफॉर्म है जो झारखण्ड की इस बेटी के लिए इंसाफ की गुहार लगा रहा है ताकि नींद में सोई हुई हेमंत सरकार जागे और खुलेआम घूम रहे आरोपियों पर कार्रवाई करें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending