तीसरी लहर में भी कोरोना वायरस के संक्रमण से बच्चों को कैसे बचाएं? पेरेंट्स इन खास बातों का जरूर रखें ध्यान

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने जहां देशभर में आतंक मचाया हुआ है। वहीं अब वायरस के नए-नए वैरिएंट्स की वजह से इसकी तीसरी लहर की बात होने लगी है। रोजाना लाखों की संख्या में संक्रमित मिल रहे हैं, जबकि हजारों लोग इस जानलेवा वायरस के चलते दम तोड़ रहे हैं। अब ऐसा कहा जा रहा हैं कोरोना की तीसरी लहर से बच्‍चों को ज्‍यादा खतरा हो सकता है। साथ ही यह काफी संख्या में बच्चों को भी संक्रमित कर सकता है। फिलहाल कोरोना वायरस की तीसरी लहर को लेकर  चिंता जताई जा रही है। ऐसे में सबसे जरूरी हो जाता है कि आप अपने बच्चों को कोरोना के संक्रमण से बचाएं और इसके लिए कुछ विशेष बातों का ध्यान रखें। आइए जानते हैं इसके बारे में… 

दरअसल विशेषज्ञों का कहना है कि पहले बच्चों में ज्यादातर सर्दी-खांसी और बुखार की शिकायत आती थी,मगर कोरोना की इस दूसरी लहर में और भी कई तरह लक्षण नजर आने लगे हैं। इसके अलावा इस बार कोरोना वायरस 11 साल से लेकर 17 साल तक के बच्चों को ज्यादा संक्रमित कर रहा है। 

बच्चों में कुछ ऐसे हैं कोरोना के लक्षण  
-लंबे समय तक और तेज बुखार रहना 
-दस्त लगना 
-उल्टी और पेट में दर्द होना 
-सूखी खांसी 
-हाथ-पैरों में सूजन 
-मांसपेशियों में दर्द 
-त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ जाना 
-बच्चे का चिड़चिड़ा हो जाना 

इस तरह बच्चों को कोरोना वायरस से बचाएं? 
माता-पिता खासतौर पर इस बात का ध्यान रखें ऐसे माहौल में बच्चों को घर से बिलकुल भी बाहर न निकलने दें। उन्हें मास्क लगाने और हाथों को बार-बार साबुन-पानी से धोते रहने को कहें। यदि माता-पिता खुद कहीं बाहर से आ रहे हैं तो ऐसे में कपडे चेंज करके ही बच्चों से मिलें और संभव हो तो नहा लें। 

बच्चों की डाइट का ध्यान रखें और एक्सरसाइज कराएं

बच्चों को कोरोना संक्रमण से कोसो दूर रखने के लिए उन्हें रोज गुनगुना पानी पीने को दें और साथ ही रात में सोने से पहले हल्दी वाला दूध पिलाएं, क्योंकि इससे वायरल से लड़ने में मदद मिलती है इसके अलावा खट्टे फलों और  जितना हो सके हरी और ताजी सब्जियां खिलाएं।

 वहीं, योग की बात करें तो चूंकि इस बार कोरोना वायरस सीधे फेफड़ों पर हमला कर रहा है और नुकसान पहुंचा रहा है, जिससे सांस लेने में परेशानी होने लगती है और ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है। ऐसे में यह जरूरी है कि आप अपने बच्चों से ब्रीदिंग एक्सरसाइज कराएं, ताकि उनके फेफड़े मजबूत बनें। ऐसे में आप बच्चों को गुब्बारा फुलाने को भी दे सकते हैं। इससे फेफड़ों में मजबूती आती है।  

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending