Honey Bee Keeping :  बैठे रहने से अच्छा है करें मधुमक्खी का पालन, लखपति बनने में नहीं लेगी देर

आज के समय में अच्छी क्वालिटी के शहद की मांग काफी बढ़ गई है। यूं तो बाजार में कई प्रकार के शहद मिलते हैं लेकिन अक्सर बाजार में पाए जाने वाले शहद में चीनी मिला होता है। ऐसे में अगर अच्छी क्वालिटी का शहद लोगों को मिल जाए तो लोग मुंह मांगा रकम भी देने को तैयार हो जाते हैं। वर्तमान में शहद और शहद प्रोडक्ट की डिमांड को देखते हुए मधुमक्खी पालन का बिजनेस काफी तेजी से दौड़ रहा है। मधुमक्खी पालन का बिजनेस लोगों को अच्छी कमाई दे रहा है। इसके साथ ही सरकार भी इस दिशा में मधुमक्खी पालन का व्यवसाय शुरू करने वाले लोगों की मदद आर्थिक तौर पर कर रही है। हाल ही के दिनों में ये देखा गया है कि मधुमक्खी पालन के क्षेत्र में लोगों ने रुचि दिखाई है।

मधुमक्खी पालन से शहद का उत्पादन बड़े मात्रा पर अब किया जाने लगा है। पहले ये होता था कि काफी कम संख्या में लोग मधुमक्खी पालन किया करते थे। प्राकृतिक तौर पर मधुमक्खी के छत्ते से शहद के लिए लोग निर्भर होते थे लेकिन आज ऐसा नहीं है। मधुमक्खी पालन के लिए एक जगह चुन कर इस में मधुमक्खी पालन शुरू किया जा सकता है। लेकिन मधुमक्खी पालन शुरू करने से पहले आपको इसके संबंध में पूरी जानकारी होना आवश्यक है।

अगर आपके पास मधुमक्खी पालन संबंधी जानकारी नहीं है और आप यूं ही मधुमक्खी पालन करने की दिशा में चल पड़ते हैं तो इससे आपको काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। अब बात रही कि आप शहद उत्पादन के लिए मधुमक्खी पालन संबंधी प्रशिक्षण कहां से पा सकते हैं । तो इसके लिए सरकार आपको प्रशिक्षण देती है। अपने जिले के कृषि विज्ञान केंद्र में जाकर इसके लिए संपर्क कर सकते हैं और मधुमक्खी पालन संबंधी दिए जाने वाले प्रशिक्षण का हिस्सा बनकर अच्छा मधुमक्खी पालन सीख सकते है। शुरुआत में आप मधुमक्खी पालन संबंधित कम जानकारी आपके पास होती हैै। लेकिन जैसे-जैसे आप मधुमक्खी पालन करने लगते हैं आप इसने एक्सपर्ट होने लगते हैं।

मधुमक्खी पालन का बिजनेस शुरू करने से पहले आपको कुछ आवश्यक उपकरण भी खरीदने होते है। मधुमक्खी मधुमक्खी पालन के लिए सबसे जरूरी होता है मधुमक्खियों की किस्म का पहचान होना। मधुमक्खियों का भी अलग-अलग किस्म होता है। मधुमक्खी पालन में वैसे मधुमक्खी के किस्म को चुनाजो शहद उत्पादन की क्षमता अधिक रखते हैं।मधुमक्खी पालन आपको एक साल में करीब 2500000 रुपए तक की कमाई दे सकता है। दरअसल, 1 साल में करीब 10,000 किलोग्राम शहद शहद तैयार करने की क्षमता अगर आप रखते हैं तो 250 रूपए प्रति किलोग्राम के हिसाब से आप सालाना 25 लाख तक की कमाई कर सकते हैं। वहीं अगर इस बिजनेस के सभी खर्चों को निकाल दिया जाए तो आप सालाना आठ से नौ की कमाई आराम से कर सकते हैं। 

मधुमक्खी पालन के लिए सबसे जरूरी होता है खुला जगह या फिर ऐसी जगह जहां पर मधुमक्खियों को फूलों से रस लाने के लिए काफी दूर ना जाना पड़े। मधुमक्खी पालन के लिए हमेशा ऐसी जगहों को चुने जहां पर फूल के पेड़ ज्यादा है, या फिर हरियाली ज्यादा है। इससे होता ये है कि मधुमक्खियों को रस के लिए ज्यादा अधिक मेहनत नहीं करनी पड़ती है। कहने का अर्थ है कि उन्हें ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ता है। ऐसा होने से मधुमक्खियां ज्यादा मात्रा में जो है वह मधुमक्खी के छत्ते में फूलों का रस जमा करती है जिससे शहद का उत्पादन ज्यादा होता है। इसके अलावा भी कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। जैसे कि मधुमक्खियों के छात्रों को धूप और पानी तथा ज्यादा हवा से बचाना भी जरूरी होता है। 

0इसके अलावा समय-समय पर मधुमक्खी के छात्रों की देखभाल तथा समय रहते हुए शहद को निकाल लेना भी जरूरी होता है ऐसे में अगर आप गांव में रहते हैं या फिर ऐसी सा जगह पर रहते हैं जहां आसपास काफी ज्यादा पेड़ हैं तो आप मधुमक्खी का बिजनेस शुरू कर सकते हैं वैसे शहरों में भी आजकल मधुमक्खी का पालन काफी अच्छे से किया जा रहा है उन्नत किस्मों का इस्तेमाल कर लोग मधुमक्खी पालन कर रहे हैं जिनसे उन्हें काफी लाभ हो रहा है।

AOh14GjyWbLxj ScMsbQdYdysA2HiV HwSVaJaPoVSp =s40 pReplyForward

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending