हिंदूवादी नेता ने दिया विवादित बयान, कहा- ‘जोधा-अकबर के बीच नहीं था प्रेम, सत्ता के लिए लगाया था बेटी को दांव’, भड़का राजपूत समुदाय

भाजपा विधायक और हिंदूवादी नेता रामेश्वर शर्मा सागर के हिंदूत्व धर्म संवाद में अकबर-जोधाबाई के प्रसंग संदर्भ के दौरान राजपूतों पर यह टिप्पणी करते हुए कहा कि अकबर और जोधाबाई में कोई प्रेम नहीं था। सत्ता के लोभियों के कारण यह शादी हुई थी, ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत बताई। शर्मा ने कहा कि आज हमें अकबर महान को बताया जाता है लेकिन महाराणा प्रताप के वंशजों के बारे में नहीं बताया जाता जो जान बचाने के लिए जंगल में छिपते रहे।

सोमवार को सागर के हिंदूत्व धर्म संवाद कार्यक्रम में शिरकत कर रहे विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि ‘जोधाबाई और अकबर में आई लव यू नहीं था। क्या था? कुछ था? कहीं मिले थे? कॉफी हाउस में? जिम में? जब लोग सत्ता के लोभी हो जाएं और सत्ता के लिए बेटी को दांव पर लगा दें…ऐसे लुटेरों से भी सावधान रहो।’ उन्होंने सत्ता के लालच में बेटियों को दांव पर लगा देने वाले लुटेरों से भी सावधान रहने की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि इन लोगों ने अपने होते हुए धर्म को धोखा दिया। 

उनका यह भाषण वायरल होते ही राजपूत समाज ने उनके खिलाफ कड़ी नाराजगी जाहिर की है। जिसके बाद शर्मा ने अपने बयान पर माफी मांगते हुए कहा है कि मुगलों की चालाकी और फूट करो राज करो की नीति के संदर्भ में उन्होंने उक्त टिप्पणी की थी। राजपूत समाज हिंदूत्व का रक्षक रहा है और क्ष्रत्रिय वीरों की गाथाएं देश को हमेशा गौरवांवित किया है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending