खुशखबरी! हरियाणा सरकार ने की घोषणा…अब किसानो को बांटे जाएंगे 7621 ट्यूबवैल कनेक्शन

हरियाणा सरकार (Haryana Government) आने वाले 35 दिनो के भीतर किसानों की सुविधा के लिए पर 7621 ट्यूबवैल कनेक्शन (Tubewell connection) जारी करेगी। इसके तहत जिन क्षेत्रों में भूजल स्तर (Groundwater level) 100 फुट से अधिक गहराई में हैं, उनमें माइक्रो सिंचाई (ड्रिप सिस्टम) को प्रोत्साहन दिया जाएगा। हरियाणा सरकार (Haryana Government) की तरफ से इसके लिए अनुसूचित जाति के किसानों को 80 प्रतिशत तक तथा सामान्य क्षेणी के किसानों को 60 फीसदी तक सब्सिडी दी जाएगी। इसके साथ ही सौ फुट से कम भूजल स्तर वाले क्षेत्रों में किसानों को ट्यूबवैल कनेक्शन देकर तथा उससे अधिक गहराई वाले क्षेत्रों में ड्रिप सिंचाई सिस्टम (Drip irrigation system) लागू किया जाएगा। हरियाणा सरकार के अनुसार उनके द्वारा किसानों को फसलों के लिए पर्याप्त पानी (Water) उपलब्ध करवाने की कोशिश जारी है।

हरियाणा सरकार अगले 35 दिन में किसानों के आवेदन पर 7621 ट्यूबवैल कनेक्शन (Tubewell connection) जारी करेगी। अभी तक 9401 ट्यूबवैल कनेक्शन दिए जा चुके है। सरकार ने 7 अन्य कंपनियों के मोटर पंपसेट (Motor pump set) को भी अधिकृत किया है। कोई भी किसान इन कंपनियों के पंपसेट खरीद कर अपने खेतों में लगवा सकते हैं। जिनमें शक्ति पंप, क्राम्पटन इलेट्रॉनिक, सीआरआई पंप, ड्यूक प्लास्टो, एक्वासब इंजीनियरिंग तथा लूबी इंडस्ट्री के 3 स्टार पंप शामिल हैं। कंपनियों के पंप लगाने से लेकर रिपेयर करने तक की पूरी जिम्मेदारी संबंधित कंपनी की होगी।

बिजली मंत्री रणजीत सिंह के मुताबिक, अभी तक किसानो को 9401 ट्यूबवैल कनेक्शन दिए जा चुके है। प्रथम चरण के शेष बचे कनेक्शन आगामी 15 जुलाई तक देने का लक्ष्य रखा गया है। जिन किसानों (Farmers) ने ट्यूबवैल कनेक्शन के लिए एक जनवरी 2019 से पहले आवेदन किया था, उन्हें चरणबद्ध तरीके से कनेक्शन दिए जा रहे हैं। इसके पहले चरण में 17022 कनेक्शन जारी किए जाएंगे। बिजली मंत्री ने आगे कहा कि दूसरे चरण में 40 हजार आवेदकों को कवर किया जाएगा। जिनको 30 जून 2022 तक कनेक्शन उपलब्ध करवाने का टारगेट रखा गया है। इनमें से 39,571 आवेदकों के एस्टिमेट तैयार कर फीस जमा करवाने को कहा गया है। जबकि 19,672 किसानों ने अनुमानित लागत फीस जमा भी करवा दी है।

हरियाणा सरकार की तरफ से कही गई बातें-

• जिन क्षेत्रों में भूजल स्तर (Groundwater level) 100 फुट से अधिक गहराई में हैं, उनमें माइक्रो सिंचाई (ड्रिप सिस्टम) को प्रोत्साहन दिया जाएगा।
• अनुसूचित जाति के किसानों को 80 प्रतिशत तक तथा सामान्य क्षेणी के किसानों को 60 फीसदी तक सब्सिडी दी जाएगी।
• सौ फुट से कम भूजल स्तर वाले क्षेत्रों में किसानों को ट्यूबवैल कनेक्शन दिए जाएंगे।
• अधिक गहराई वाले क्षेत्रों में ड्रिप सिंचाई सिस्टम (Drip irrigation system) लागू किया जाएगा।
• कोई भी किसान इन कंपनियों के पंपसेट खरीद कर अपने खेतों में लगवा सकते हैं। 
• इन कंपनियों के पंप लगाने से लेकर रिपेयर करने तक की पूरी जिम्मेदारी संबंधित कंपनी की होगी।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending