पूर्व उपराष्ट्रपति सालेह और मसूद ने तालिबान के खिलाफ की युद्ध की घोषणा, कहा- नही करेंगे आत्मसम्पर्ण

अफ़गानिस्तान को पूरी तरह अपने कब्जे मे लेने के बाद तालिबान ने पंजशीर प्रांत पर जीत हासिल करने के लिए अपनी आतंकी गतिविधियां तेज कर ली है। वहीं अब अफगानिस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह ने तालिबान के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी है। सालेह ने खुद को अफगानिस्तान का कार्यवाहक राष्ट्रपति घोषित किया है। उन्होंने कहा कि तालिबान लड़ाके पंजशीर के प्रवेश द्वार पर बड़ी संख्या में एकत्र हुए हैं।

हम तालिबान के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए तैयार हैं। सालेह ने युद्ध का ऐलान करते हुए तालिबान को देख लेने की धमकी भी दी है। बता दें बीते दिन तालिबान के लड़ाकों ने अहमद मसूद और उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह को स्वयं आत्मसमर्पण करने या इसका भयंकर अंजाम भुगतने की चेतावनी दी थी। जिस पर अब अहमद मसूद ने सोमवार को तालिबान को दो-टूक जवाब देते हुए कहा वो अपने अधीन आने वाले इलाकों को तालिबान को नहीं देगा और न ही उसके सामने सरेंडर करेगा।

एक चैनल से बातचीत के दौरान अहमद मसूद ने कहा कि वो देश में एक समग्र यानी मिली जुली सरकार चाहते हैं। जिसमें तालिबान के साथ ही अन्य पक्षों की भी भागीदारी शामिल हो। मसूद ने कहा कि इसके लिए तालिबान को सभी पक्षों के साथ बातचीत करनी होगी। अहमद मसूद ने चेताते हुए कहा कि अगर तालिबान ने बातचीत के प्रस्ताव को ठुकराता है तो फिर उससे हमसे भिड़ने के लिए तैयार रहना चाहिए।

अहमद मसूद ने आगे कहा, “मैंने इस सभी देशों से कहा कि हमारी आजादी की इस जंग में वे पहले की तरह एक बार फिर हमारी मदद करें। कुछ कड़वाहटों के बावजूद हमें आप सब देशों पर पूरा भरोसा है। आज वर्ष 1940 जैसी ही हमारी स्थिति है। पंजशीर को छोड़कर पूरे अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा हो चुका है। केवल हम ही उनके खिलाफ खड़े हैं। जो लोग उनसे हार चुके हैं, अब वे तालिबान के साथ सहयोग की बातें कर रहे हैं। इसके बावजूद हम नहीं झुकेंगे।”

बता दें अहमद मसूद (Ahmad Massoud), अहमद शाह मसूद के बेटे हैं। करीब 20 साल पहले अलकायदा और तालिबान ने बम विस्फोट में अहमद शाह मसूद की हत्या कर दी थी। वहीं, पूरे देश पर तालिबान के कब्जे के बाद अब अहमद मसूद के नेतृत्व वाला पंजशीर प्रांत ही उनकी पकड़ से दूर है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending