अटल सरकार में वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा TMC में हुए शामिल

बंगाल चुनाव अब और भी रोचक होता जा रहा है, पार्टी में विलय की प्रक्रिया अभी तक जारी है इसी कड़ी में पूर्व केंद्रीय
मंत्री रहे यशवंत सिन्हा शनिवार को ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। सिन्हा ने कोलकाता
में स्थिति टीएमसी के कार्यालय में पार्टी ज्वाइन की। पश्चिम बंगाल चुनाव से ठीक पहले यशवंत सिन्हा का यह
फैसला टीएमसी के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। यशवंत सिन्हा इससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में
वित्त मंत्री राह चुके हैं, लेकिन 2014 के बाद से ही केंद्र सरकार की आलोचना करते रहे हैं।

यशवंत सिन्हा ने अपने बयान में कहा कि भारत आज अभूतपूर्व स्थिति का सामना करने को मजबूर है जबकि
लोकतंत्र की मजबूती लोकतंत्र के संस्थानों में निहित होती है। उन्होंने आगे बताया कि अटलजी के समय में बीजेपी
का आम सहमति में भरोसा था, लेकिन अब बीजेपी सरकार कुचलने और जीतने में भरोसा करती है। अकाली, बीजेडी
ने पहले ही भाजपा साथ छोड़ दिया, अब बीजेपी के साथ कौन है? ऐसे में इस बात अनुमान लगाया जा रहा है कि
यशवंत सिन्हा टीएमसी से जुड़ने के बाद पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार भी करेंगे।

यशवंत सिन्हा से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य
यशवंत सिन्हा मुख्य रूप से पटना के रहने वाले हैं, इनकी पढ़ाई लिखाई भी वहीं से हुईं। सिन्हा ने 1958 में राजनीति
शास्त्र में मास्टर की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद 1960 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में उनका चयन हुआ और 24 साल
से अधिक समय तक सेवा दिए। इसके बाद 1984 में यशवंत सिन्हा ने भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा दे दिया
और जनता पार्टी के सदस्य के रूप में सक्रिय राजनीति से जुड़ गए। चार साल बाद उन्हें राज्य सभा के लिए सदस्य
चुना गया। वहीं, अटल बिहार वाजपेयी की सरकार के द्वारा उनको मार्च 1998 में वित्त मंत्री नियुक्त किया गया।
2004 के लोकसभा चुनाव में वो हजारीबाग सीट से हार गए, लेकिन अगले ही वर्ष 2005 में वे फिर संसद पहुंचे। साल
2009 में यशवंत सिन्हा ने बीजेपी उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending