तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने ऑस्ट्रेलियाई अंपायरों को लेकर दिए बड़े बयान

गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद भारत लौटे तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने दौरे में उनके उपर किए गए नस्लीय टिप्पणी के मामले में अब ऑस्ट्रेलिया के अंपायरों को लेकर बड़ा खुलासा किया है, और यह बेहद ही चौंकाने वाला है, और आईसीसी यानी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल को इसपर जाँच करने की जरूरत है । आप इतना तो जानते ही हैं कि मोहम्मद सिराज और बुमराह को कैसे सिडनी और फिर गाबा के मैदान में ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों ने उनपर नस्लीय शब्दों से निशाना साधा था जिसकी वजह से कई बार मैच भी रोकना पड़ा था । हालांकि ऐसे समय मे अंपायरों की ड्यूटी अहम मायने रखती है लेकिन उन्होंने भारतीय टीम के सामने एक अलग ही प्रस्ताव रखा, जो वहां के अंपायरों की नीयत पर सवाल खड़ा करता है । बता दें कि सिडनी में खेले गए तीसरे टेस्ट में अम्पायर के तौर पर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज पॉल राइफल और पॉल विल्सन थे ।
 मोहम्मद सिराज ने बताया कि सिडनी टेस्ट में वहां के दर्शकों द्वारा नस्लीय टिप्पणियां के बाद ऑस्ट्रेलिया के मैदानी अंपायरों ने भारतीय टीम को तीसरा टेस्ट बीच में छोड़ कर जाने का विकल्प दिया था । जिसे कप्तान अजिंक्य रहाणे द्वारा ठुकरा दिया गया था । सिराज के द्वारा किए गए इस खुलासे के बाद सवाल यह उठता है कि अंपायर के द्वारा दर्शकों की शिकायत करने के जगह वह भारत को ऐसा विकल्प कैसे दे सकते हैं । क्या ऐसे विकल्प से अंपायरों ने अपना सही दायित्व और खेल के भावना को दर्शाया? 
बता दें कि तेज गेंदबाज सिराज और जसप्रीत बुमराह को सिडनी टेस्ट में लगातार दो दिन तक नस्लीय टिप्पणियों का सामना करना पड़ा था जिसके वजह से भारतीय टीम प्रबंधन ने मैच के रैफरी डेविड बून से शिकायत भी की। क्रिकेट आस्ट्रेलिया द्वारा इस बात के लिए माफी भी मांगी गई थी ।

ऑस्ट्रेलिया के कुछ दर्शकों ने सिराज को “ब्राउन मंकी” कहा था और जब सिराज ने यह बात कप्तान अजिंक्य रहाणे को बताई तो कप्तान ने मैदानी अंपायर पॉल राइफल और पॉल विल्सन को इस बात से जुड़ी जानकारी दी थी। और भारत पहुँचने के बाद सिराज ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि उन्होंने आस्ट्रेलिया में अपशब्द सहे। मामला अब भी चल रहा है और यह देखना बाकी है कि उन्हे इंसाफ मिलता है या नहीं। मेरा काम था कि मै कप्तान को इसकी जानकारी दूं। ऑस्ट्रेलिया टेस्ट मैच में भारत के लिये सबसे अधिक और 13 विकेट लेने वाले गेंदबाज सिराज ने बताया कि,‘अंपायरों ने उन्हे मैच छोड़ने के लिए कहा लेकिन रहाणे ने इस बात से इंकार कर दिया । उन्होंने कहा कि इसमे जब भारतीय टीम कि कोई गलती नहीं तो हम खेलेंगे। दर्शकों द्वारा किया गया खराब बर्ताव उनके लिये अच्छे प्रदर्शन की प्रेरणा बना। और सिराज ने कहा कि वह इससे मैं मानसिक रूप से बहुत मजबूत हुआ। और उन्होंने खेल पर उसका असर नहीं पड़ने दिया।

ऑस्ट्रेलिया के कुछ दर्शकों ने सिराज को “ब्राउन मंकी” कहा था और जब सिराज ने यह बात कप्तान अजिंक्य रहाणे को बताई तो कप्तान ने मैदानी अंपायर पॉल राइफल और पॉल विल्सन को इस बात से जुड़ी जानकारी दी थी। और भारत पहुँचने के बाद सिराज ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि उन्होंने आस्ट्रेलिया में अपशब्द सहे। मामला अब भी चल रहा है और यह देखना बाकी है कि उन्हे इंसाफ मिलता है या नहीं। मेरा काम था कि मै कप्तान को इसकी जानकारी दूं। ऑस्ट्रेलिया टेस्ट मैच में भारत के लिये सबसे अधिक और 13 विकेट लेने वाले गेंदबाज सिराज ने बताया कि,‘अंपायरों ने उन्हे मैच छोड़ने के लिए कहा लेकिन रहाणे ने इस बात से इंकार कर दिया । उन्होंने कहा कि इसमे जब भारतीय टीम कि कोई गलती नहीं तो हम खेलेंगे। दर्शकों द्वारा किया गया खराब बर्ताव उनके लिये अच्छे प्रदर्शन की प्रेरणा बना। और सिराज ने कहा कि वह इससे मैं मानसिक रूप से बहुत मजबूत हुआ। और उन्होंने खेल पर उसका असर नहीं पड़ने दिया।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending