“एमएसपी गारंटी कानून” की मांग को लेकर किसानों ने फिर भरी हुंकार, पढ़िए पूरी खबर

देश के अग्रणी किसान, मजदूर एवं नागरिक संगठनों के संयुक्त तत्वावधान में छत्तीसगढ़ की राजधानी में साहू समाज सभागार टिकरापारा में सभी फसलों के लिए सभी किसानों को 1-एकसूत्रीय मांग “न्यूनतम समर्थन मूल्य कानूनी गारण्टी लागू करो” विषय पर कृषक महासम्मेलन का आयोजन किया गया। इसके मुख्य वक्ता एमएसपी गारंटी किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सरदार वी एम सिंह विशिष्ट वक्ता महाराष्ट्र के संयोजक व पूर्व सांसद राजू शेट्टी थे। आधार वक्तव्य एमएसपी गारंटी किसान मोर्चा के ‘राष्ट्रीय प्रवक्ता’ तथा  अखिल भारतीय किसान महासंघ आईफा के राष्ट्रीय संयोजक डॉ राजाराम त्रिपाठी ने रखा।

कृषक महा-सम्मेलन में दिल्ली से आए मुख्य वक्ता सरदार वी एम सिंह ने बताया कि सभी कृषि उपजों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारंटी की मांग और संघर्ष को लेकर देश के अग्रणी किसान संगठनों ने दिल्ली में लगातार बैठकें कर सर्वसम्मति से एक सूत्रीय कार्यक्रम के तहत राष्ट्रीय “एमएसपी गारण्टी किसान मोर्चा” बनाया है। इसके द्वारा देश भर में किसान संगठनों और किसानों के बीच संगोष्ठी व सम्मेलनों के माध्यम से सभी फसलों और सभी किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारण्टी मिल सके इस विषय पर व्यापक जनअभियान चलाया जा रहा है।

कार्यक्रम को दौरान राष्ट्रीय किसान मोर्चा के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजाराम त्रिपाठी ने कहा कि “न्यूनतम समर्थन मूल्य” हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है। देश की खेती अब आमूलचूल परिवर्तन मांग रही है। इस दिशा में सबसे पहला और जरूरी कदम देश के किसानों को उनके उत्पादन का वाजिब मूल्य दिलाने गारंटी देने वाला एक सक्षम कानून बनाना होगा,और यह देश के किसान संगठनों के साथ मिल बैठकर किया जाना ही उपयुक्त रहेगा। इस दौरान तेजराम विद्रोही ने कहा कि तीनों कृषि कानूनों की खामियों के बारे में देश के सभी किसान नेताओं को सर्वप्रथम बताने का कार्य छत्तीसगढ़ की धरती के लाल डॉ राजाराम त्रिपाठी ने ही किया था, और सबसे पहले इन कानूनों के खिलाफ हुंकार भरी थी।

एमएसपी गारंटी की लड़ाई में भी छत्तीसगढ़ के किसान संगठन पीछे नहीं रहेंगे। यह अभियान पूरे देश में जोर शोर से प्रारंभ हो गया है। उन्होंने कहा कि सोमवार को  उत्तराखंड में किसानों की सम्मेलन हुए। 1 दिसंबर को पुणे महाराष्ट्र में राजू शेट्टी के संयोजन में  विशाल किसान सभा आयोजित की गई। आज छत्तीसगढ़ में हुआ और 18 दिसंबर को देहरादून में किसानों की बड़ी सभा आयोजित की जाने वाली है जहां  देशभर के किसान संगठन तथा लाखों किसान पहुंच रहे हैं।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending