किसान नेता राकेश टिकैत ने 27 सितंबर को भारत बंद का किया ऐलान, आज करेंगे करनाल की ओर रुख, प्रशासन ने लागू की धारा 144

संयुक्त किसान मोर्चा के प्रमुख राकेश टिकैत ने रविवार को तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन के बीच 27 सितंबर को भारत बंद का ऐलान कर दिया है। रविवार को भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए एक तरफ केंद्र पर निशाना साधते हुए फिर से तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की।

वहीं, केंद्र के साथ कानूनों पर वार्ता को लेकर टिकैत ने कहा, “जब केंद्र सरकार हमें बातचीत के लिए आमंत्रित करेगी, हम जाएंगे। जब तक सरकार हमारी मांगें पूरी नहीं करती तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा। आजादी का संघर्ष 90 साल तक चला था, ऐसे में मुझे नहीं पता कि यह आंदोलन कब तक चलेगा।” राकेश टिकैत का कहना है कि जब तक सरकार तीनों कानून को वापस नहीं लेगी, तब तक आंदोलन चलता रहेगा। मोदी-योगी की सरकार झूठी है।

किसानों की आय दोगुनी नहीं हुई। खेती बिकने के कगार पर है। किसान मंच की तरफ से एलान किया गया है कि आगामी 10 और 11 सितंबर को लखनऊ में तमाम किसान संगठन के पदाधिकारियों की एक अहम बैठक होगी, जिसमें प्रदेश स्तर और जिला स्तर पर संयुक्त मोर्चा बनाए जाने पर मुहर लगाई जाएगी। बता दें आज हरियाणा के करनाल में किसानो की महापंचायत का आयोजन किया गया है।

सोमवार को हरियाणा भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के प्रमुख गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा था कि मंगलवार को यहां एक विशाल पंचायत का आयोजन किया जाएगा, जिसके बाद किसान लघु सचिवालय का घेराव करेंगे। उन्होंने कहा था की किसान मंगलवार सुबह करनाल की नयी अनाज मंडी में एकत्रित होंगे। इस बीच राज्य सरकार ने कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कुछ कदम उठाए हैं। जहां एक तरफ करनाल में धारा 144 लगा दी गई है। तो वहीं दूसरी तरफ सरकार ने मोबाइल इंटरनेट सेवाएं, एसएमएस सेवाएं, डोंगल सेवाएं आदि सब बंद कर दिया है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending