क्या आप भी करते हैं डिटॉक्स वॉटर का सेवन, जानें हमारे शरीर में किस तरह का बदलाव करता है डिटॉक्स वॉटर

डिटॉक्स वॉटर का काम शरीर को डिटॉक्सिफाई करना होता है। टॉक्सिक पदार्थ हमारे शरीर के लिए हानिकारक होते हैं। हमारी खाने-पीने, सोने और जागने की आदतों से हमारे शरीर में टॉक्सिक पदार्थ बनते हैं और इन्हें शरीर से बाहर निकालना बहुत जरूरी होता है। इसके लिए आप अपनी बॉडी को डिटॉक्स वॉटर से साफ कर सकते है। सिर्फ डिटॉक्स वॉटर की मदद से अपना वजन भी कम भी किया जा सकता है। डिटॉक्स वॉटर से प्राकृतिक तौर पर इम्‍युनिटी बढ़ती है। इसके अलावा जलन-सूजन कम करने, ऊर्जा बढ़ाने, पाचन शक्ति बेहतर बनाने, लीवर को साफ करने और त्वचा को स्वस्थ बनाने में मदद मिलती है।फूड ब्लॉगर मुद्रा केसवानी कहती हैं कि,”तुलसी और बैसिल के पानी के इस्तेमाल से इससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। ये दोनों ही डिटॉक्स वाटर रूम टेम्प्रेचर पर ही होने चाहिए। जो जल्द ही असरदार होता है। क्योंकि बॉडी को हाइड्रेट और डिटॉक्स रखना जरूरी है। इसके अलावा, नारियल पानी में फ्रूट्स एंड वाटरमेलन जैसी चीजें बॉडी हाइड्रेट करने में काफी मदद करती है।”जानिए क्‍या है डिटॉक्स वॉटर फायदे:-इम्यून सिस्टमडिटॉक्स वॉटर से अपना इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता। विशेष रूप से अगर आप नियमित तौर पर विटामिन सी का सेवन करते हैं तो यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत कर सकता है। डिटॉक्स वॉटर विषाक्त पदार्थों, कचरे और मुक्त कणों से छुटकारा पाने में मदद करता है और साथ ही यह प्रतिरक्षा को भी मजबूत करता है।पाचन क्रियाडिटॉक्स पेय में मौजूद पोषक तत्व आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखा जा सकता हैं। डिटॉक्स पेय लीवर की सक्रियता में भी मदद करता है। नींबू से तैयार डिटॉक्स पेय में एस्कॉर्बिक एसिड होता है जो पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है। भरपूर पानी पीने से भोजन या भोजन के अपशिष्ट को आंत से गुजरने में मदद मिलती है, जिससे कब्ज नहीं होता है।लीवर की रक्षाडिटॉक्स पेय हमारे खाने में से टॉक्सिन को बाहर निकाल देते हैं। इसलिए अपने पीने के पानी में ताज़ा और रसेदार खीरे के कुछ टुकड़े मिलाएं और दिन भर उसकी चुस्की लें। रोज़ाना डिटॉक्स वॉटर पीने वाले लोगों का लीवर बाकी लोगों की अपेक्षा ज्यादा स्वस्थ रहता है।नहीं होगी एनर्जी की कमीडिटॉक्स पेय जलन-सूजन कम करने, लीवर को साफ करने और स्वाभाविक रूप से ऊर्जावान बनाने में मदद करता है। जब विषाक्त पदार्थों से मुक्ति मिल जाती है तो शरीर में हल्कापन और ताज़गी महसूस होती है। इससे पूरा दिन काम करने की एनर्जी मिलती है।ऐसे बनाएं घर में डिटॉक्स वॉटर:-सबसे पहले यह तय कर लें कि आपको किस फल का डिटॉक्स वॉटर बनाना है। उसके बाद उसे साफ करके रख लें। सभी सामग्रियों को काट कर उन्हें गर्म या ठंडे पानी में मिला लें।अब उस पानी को कुछ देर तक एक जग में डालकर रखें। ध्यान रखें कि जितनी ज्यादा सामग्रियों का उपयोग करेंगे, आपका डिटॉक्स जल उतना ही स्वादिष्ट बनेगा। अगर आप ठंडा पेय बनाना चाहते हैं तो डिटॉक्स जल को 1-12 घंटे के लिए फ्रिज में रख सकते हैं ताकि इसमें डली सामग्रियों का जायका अच्छी तरह मिल जाए। हालांकि इसके बाद इन सामग्रियों को फेंक दें ताकि वे खराब न होने लगें और पानी को दूषित न कर दें।घर में मौजूद हर हर्बल चीज से बन सकता है सेहत भरा शरबतचाय 3-4 लौंग, इलायची, दालचीनी, अदरक, काली मिर्च को पीसकर चाय में उबालें। छानकर ठंडा होने दें। रूम टेम्प्रेचर पर आ जाए तो शहद और नींबू डालकर सर्व करें।आम और तुलसीआम पाचन कोलेस्ट्रॉल को कम और इंसुलिन को सुधार करने में मदद करता है। तुलसी के पत्ते में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जिससे कई बीमारियों से बचा जा सकता है।पानी, हल्दी और पालक का डिटॉक्स वॉटरपालक एक बहुत ही बढ़िया डिटॉक्सीफाइंग एजेंट है। पालक को हल्दी के साथ पीस कर स्मूदी बनाएं। कोशिश करें, पालक के कुछ पत्ते रोजाना की डाइट में शामिल हों। हल्दी में एंटीसेप्टिक प्रॉपर्टीज होती हैं, पालक इम्यूनिटी बूस्ट करता है।मिलते हैं विटामिन, मिनरल्स और एंटीऑक्सिडेंटड्रिंक्स में मसालों के साथ शहद और नींबू डालें, जिससे मसालों की गर्म तासीर संतुलित होती है। शलजम से इम्युनिटी बूस्ट होती, कफ में काफी आराम मिलता है। इम्युनिटी बूस्टर ड्रिंक्स में हर्ब्स, खट्टे फल डालें। ड्रिंक्स में काला नमक और काली मिर्च जरूर डालें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending