कोरोना काल में बच्चों को दस्त या पेट में दर्द होना नहीं करें अनदेखा, ऐसे करें बचाव

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने हर किसी की नाक में दम करके रखा हुआ है। कोरोना मरीजों में भले ही इन दिनों थोड़ी कमी जरूर देखने को मिली हो, लेकिन इस खतरनाक वायरस का डर अभी भी काफी ज्यादा है। ऐसा नहीं है कि  कोरोना मामलों में थोड़ी कमी आयी है तो ये वायरस अब खत्म हो गया है, बल्कि ये वायरस कब किस पर हावी हो जाये कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। क्या बड़े और क्या बुजुर्ग, ये वायरस हर किसी को अपनी चपेट में ले रहा है। वहीं, अब इस वायरस का खतरा बच्चों तक आ पहुंचा है। हालांकि, अब तक बच्चों में इस वायरस के हल्के लक्षण नजर आने की वजह से बच्चों की घर रहकर सही से देखभाल करके उन्हें ठीक किया जा सकता है। इस बीच आपको बता दें,  बच्चों में कुछ ऐसे लक्षण हैं, जो बच्चों को काफी नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसमें उल्टी-दस्त से लेकर पेट में दर्द जैसे कई लक्षण शामिल हैं। इसकी वजह से बच्चों में कोरोना का खतरा ज्यादा बढ़ सकता है। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में…

बच्चों के पेट पर कोरोना अटैक

दरअसल जब कोई बच्चा कोरोना वायरस का शिकार हो जाता है, तो ऐसे में हो सकता है बच्चे के  संक्रमित होने की वजह से उसका पेट लंबे समय तक खराब रहे। इस कारण बच्चों को ज्यादा दिनों तक होम आइसोलेशन में भी रहना पड़ेगा। कोरोना होने पर बच्चों को पेट दर्द और उल्टी-दस्त जैसी परेशानियां घेर लेती हैं। ऐसी स्थिति में आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

अगर बच्चों में कोरोना के हल्के लक्षण हैं, तो उन्हें घर पर भी ठीक किया जा सकता है। इसके लिए आपको कुछ ट्रिक्स बच्चों की जीवनशैली में लानी होगी।

1.घर पर बना हुआ पौष्टिक खाना खिलाना होगा
2. काफी ज्यादा मात्रा में पानी पिलाएं।
3. ऐसे में हर 6 घंटे बाद बच्चे का बुखार नापते रहें। यदि टेंपरेचर 100 डिग्री फारेनहाइट है, तो बच्चे को पेरासिटामोल दें। हालांकि ज्यादा परेशानी पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।
4.  बच्चों को पेट में दर्द और उल्टी-दस्त होने पर ओआरएस का घोल दे सकते हैं। इसके अलावा आप नारियल पानी भी दे ताकि बॉडी में डिहाइड्रेशन न हो।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending