जीवन में भूलकर भी ना करें ये काम, हो सकती है नर्क की प्राप्ति

हिंदू धर्म में मान्यता है की व्यक्ति को उसके कर्मो के हिसाब से ही स्वर्ग और नर्क की प्राप्ति होती है। जो व्यक्ति अपने जीवन में अच्छे काम करता है, उसे यमदूत स्वर्ग में लेकर जाते हैं। वहीं जिन लोगों ने अपने जीवन में सदा बुरे कर्म किए हैं और हमेशा दूसरे लोगों के बारे में अहित सोचा है, ऐसे लोगों को यमदूत नर्क लेकर जाते हैं। ये सारी बातें गरुण पुराण में कही गई है। गरुण पुराण में साफ साफ अक्षरों में लिखा गया है की जो व्यक्ति गरीब, असहाय, अनाथ, रोगी, बुजुर्ग आदि का मजाक बनाते हैं। इस तरह के लोगों को नर्क में काफी कठोर सजा मिलती है।

इतना ही नहीं ऐसे लोग जो देवताओं और अपने पितरों की पूजा नहीं करते इनको भी नर्क में कड़ी यातनाओं को सहना पड़ता है। हिंदू धर्म के अनुसार, ऐसे लोग जो सदा लोभ लालच में डूबे रहते हैं, स्त्री की हत्या करते हैं, दूसरों की संपत्ति पर कब्जा करते हैं, झूठी गवाही देते हैं, कन्याओं को बेचते हैं, दूसरों से ईर्ष्या करते हैं। ऐसे लोग भी मृत्यु के बाद नर्क लोक में ही जाते हैं। वहीं जिन लोगों के भीतर स्त्री के प्रति कोई वासना नहीं होती। उनका मन स्त्रियों को देखकर विचलित नहीं होता और वे स्त्री को माता, बहन और पुत्री की नजरों से देखते हैं। इस तरह के लोग भी सदा स्वर्ग की तरफ गति करते हैं। 

गरुड़ पुराण एक ऐसा महापुराण है जिसमें व्यक्ति को स्वर्ग और नर्क के बारे में बताया गया है और कर्मों के अनुसार मिलने वाले फल का भी विस्तारपूर्वक वर्णन किया गया है। गरुड़ पुराण में ये भी बताया गया है कि किन कामों को करने से मनुष्य मृत्यु के बाद सद्गति को प्राप्त होता है और किन कामों को घोर पाप की श्रेणी में रखा जाता है। यहां जानिए ऐसे कर्मों के बारे में जिन्हें किसी व्यक्ति को करने के बारे में सोचना भी नहीं चाहिए। इन कामों को महापाप माना गया है और ये व्यक्ति को जीवित रहते भी बर्बाद करते हैं और मरने के बाद भी दुर्गति करते हैं और उन्हें नर्क की यातनाएं भोगनी पड़ती हैं।

जीवन में भूलकर भी ना करें ये काम…

• पूजा की कोई भी वस्‍तु या फिर पूजा में चढ़ें फूलको इधर-उधर फेंकने से व्‍यक्ति को नर्क जाना पड़ता है।
• ऐसे लोग जो देवताओं और अपने पितरों की पूजा नहीं करते इनको भी नर्क में कड़ी यातनाओं को सहना पड़ता है।    
• ऐसे लोग जो मंदिरों, धर्म ग्रंथों का मजाक उड़ाते हैं, उन्हें भी महापापी माना जाता है। ऐसे लोग मृत्यु के पश्चात नर्क में स्थान प्राप्त करते हैं।

• गरुड़ पुराण के अनुसार अपने दायित्‍वों को नजरअंदाज ना करने वाला व्‍यक्ति पाप का भागी होता है। मृत्‍यु के बाद वह नर्क लोक जाता है।

• जो व्यक्ति गरीब, असहाय, अनाथ, रोगी, बुजुर्ग आदि का मजाक बनाते हैं। इस तरह के लोगों को नर्क में काफी कठोर सजा मिलती है।

• हिंदू धर्म में भ्रूण, नवजात और गर्भवती महिला की हत्या करना महापाप माना गया है। ऐसे व्यक्ति को मृत्यु के बाद नर्क में कई तरह की क्रूर यातनाएं दी जाती हैं।

• कमजोर, वृद्धजन और जरूरतमंदों को सताने वाले, उनका शोषण करने वालों का मृत्यु के बाद तगड़ा हिसाब होता है। ऐसे लोगों को नर्क में जगह मिलती है और कई तरह की यातनाएं दी जाती हैं।

• ऐसे लोग जो सदा लोभ लालच में डूबे रहते हैं, स्त्री की हत्या करते हैं, दूसरों की संपत्ति पर कब्जा करते हैं, झूठी गवाही देते हैं, कन्याओं को बेचते हैं, दूसरों से ईर्ष्या करते हैं। ऐसे लोग भी मृत्यु के बाद नर्क लोक में जाते हैं।

• जो लोग स्त्री का अपमान करते हैं, उन्हें अपशब्द कहते हैं। गर्भवती ​स्त्री या मासिक धर्म से हो रही स्त्री का मजाक बनाते हैं, उनके साथ गलत काम करते हैं, ऐसे लोगों का जीवन बर्बाद हो जाता है और मरने के बाद इन्हें नर्क में कठोर दंड भोगना पड़ता है।

• जब कोई व्यक्ति अपनी दुर्भावना के कारण अपने मित्र या किसी अन्य स्त्री पर बुरी दृष्टि डालता है, उसका शोषण करता है, गलत बर्ताव करता है, ऐसे लोगों को महापाप का भागीदार माना जाता है और मृत्यु के बाद कठोर दंड दिया जाता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending