केंद्र सरकार पर बरसे उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, कहा – गैर-जिम्मेदाराना है केंद्र का रवैया, हर समस्या से आंखें मूंद लेने की नीति खतरनाक

उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह के बयान पर पलटवार करते हुए की केंद्र सरकार हर संकट पर अपनी आंखे बंद कर लेती है जो बेहद गैरजिम्मेदाराना रवैया है। उसकी यह नीति देश के लिए घातर साबित हो सकती है। अगर किल्लत है तो सरकार स्वीकार करे। बता दें केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने रविवार को कहा था कि कोई कोयला संकट नहीं है और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री को पत्र नहीं लिखना चाहिए था।

आर के सिंह के इसी बयान पर मनीष सिसोदिया ने नाराजगी जाहिर करते कहा कि यह दुखद है कि एक केंद्रीय कैबिनेट मंत्री ने इस तरह का बयान दिया है। मनीष सिसोदिया ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा, “केंद्र सरकार आज जिस मोड पर पहुंच गई है, इससे ऐसा लगता है कि बीजेपी से केंद्र सरकार नहीं चल पा रही है।” उन्होंने कहा कि कुछ दिनों पहले आक्सीजन की कमी हुई थी।

केंद्र सरकार मानने को तैयार नहीं थी कि देश में आक्सीजन की कमी है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने कोयला संकट पर गलत जानकारी दी। इससे साफ पता चलता है कि केंद्र सरकार संकट से ”भागने” का बहाना बना रही है. उन्होंने कहा, “जैसे ऑक्सीजन संकट में लोग मरे थे, वैसे यहां भी त्राही त्राही मचेगी।”

सिसोदिया ने कहा, पूरे देश से आवाज़ उठ रही है कि ये कोयला संकट है और ये कोयला संकट अंत में बिजली संकट में तब्दील हो सकता है जिसका बहुत बड़ा संकट देश को झेलना होगा। देश का सिस्टम ठप हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कई मुख्यमंत्रियों ने चिठ्ठी लिखी। दिल्ली, पंजाब, आंध्र प्रदेश,

पंजाब की सरकारों ने कहा है कि कोयला संकट है लेकिन केंद्र सरकार मानने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर कोयला संकट है तो कम से कम स्वीकार तो कीजिए। ये केवल कोयले की किल्लत भर नहीं है। इसका असर बिजली, सप्लाई, इंडस्ट्री, आईटी हर जगह पड़ेगा। केंद्र सरकार देश को गड्ढे में डालना चाहती है। देश को एकदम ठप्प कर देना चाहती है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending