दिल्ली सरकार ने की चार अहम घोषणाएं, कोरोना से मरने वालों के परिजनों को मिलेगी 50,000 की सहायक राशि साथ ही अन्य आर्थिक मदद

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार (18 मई 2021) को प्रत्येक परिवार जिनमें किसी सदस्य की मौत कोरोना के कारण हुई है, उनको 50,000 रुपये की आर्थिक मदद करने का ऐलान किया है। वहीं, जिन परिवारों में इकलौते कमाने वाले सदस्य की मौत कोरोना से हुई है उन्हें भी 50 हजार रुपये के साथ 2500 रुपये पेंशन प्रतिमाह दिए जाएंगे।

अरविंद केजरीवाल सरकार की चार अहम घोषणाएं:-

1. दिल्ली में वर्तमान समय में 72 लाख लोग राशन कार्ड धारक हैं। जिनके पास राशन कार्ड हैं सरकार उन्हें पांच किलो राशन देती है। जिसमे चार किलो गेहूं और एक किलो चावल शामिल है। इसके बदले उनसे कुछ पैसे लिए जाते हैं। इस महीने यह राशन मुफ्त दिया जाएगा। इसके अलावा पांच किलो और राशन प्रधानमंत्री जी की स्कीम के तहत यह मुफ्त दिया जा रहा है। हर राशनकार्ड धारी को मुफ्त 10 किलो राशन दिया जाएगा।
दिल्ली में सिर्फ 72 लाख राशनकार्ड धारी हैं। बाकी लोगों के पास राशनकार्ड नहीं है। हर राज्य का कोटा होता है। उसी के आधार पर राशनकार्ड जारी होता है। अब जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं उन्हें भी राशन मिलेगा। जो लोग कहेंगे कि हम गरीब हैं उन्हें राशन चाहिए तो उन्हें राशन दिया जाएगा। जिस तरह पिछली बार दिया था उसी तरह इस बार भी दिया जाएगा। इसमें किसी भी तरह आय प्रमाण पत्र नहीं देना होगा।

2. बहुत से ऐसे लोग हैं जिनकी कोरोना से मौत हो गई उन लोगों के प्रति हमारी सहानुभूति है। आपकी इस क्षति को पूरा नहीं किया जा सकता है। इस मुसीबत की घड़ी में हम थोड़ी मदद कर सकते हैं। ऐसे हर परिवार को जिसके परिवार में कोरोना से मौत हुई है उन्हें 50-50 हजार रुपये की सहायता राशि दी जाएगी।

3. वहीं जिस परिवार में कमाने वाले सदस्य की मौत हुई है उस परिवार को 2500 रूपये की पेंशन हर माह मिलेगी। पत्नी की मौत हुई है तो पति को मिलेगी और यदि पति की मौत हुई है तो पत्नी की मिलेगी अगर किसी की शादी नहीं हुई है तो उसके माता-पिता को मिलेगी।
4. इसके साथ ही अगर किसी बच्चे के माता-पिता की मौत हो गई है तो उन्हें भी 25 साल की उम्र तक हर महीने 2500-2500 रुपये की मदद की जाएगी और उनकी पढ़ाई और परवरिश का खर्च भी दिल्ली सरकार उठाएगी।

इन सब के अलावा अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, “कोरोना महामारी ने चारों तरफ से लोगों के लिए परेशानी खड़ी कर दी है, जिसके घर में किसी भी सदस्य को कोरोना होता है उन्हें बहुत मुश्किल उठानी पड़ती है। बहुत से लोग ऐसे हैं जिनके अपनों की मौत हो गई। घर में जो कमाने वाला था उसकी मौत हो गई। अब घर में कोई कमाने वाला नहीं है। कई बच्चे ऐसे हैं जिनके दोनों मां-बाप चले गए। कई बुजुर्ग हैं जिनके कमाने वाले बच्चे चले गए। पिछले कुछ दिनों से हम इसी के ऊपर मंथन कर रहे थे। कोरोना के इस संकट काल में किस तरह हम लोगों की समस्या को दूर कर सकें। आज विचार मंथन के बाद चार घोषणा करने जा रहे हैं। मैं उम्मीद करता हूं कि जो चार कदम उठाने जा रहे हैं उनसे लोगों को इस मुसीबत के वक्त थोड़ी राहत मिलेगी। “

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending