चक्रवाती तूफान यास: तूफान ने बिगाड़ी मानसून की चाल, किसानों के लिए अलर्ट!

मौसम विभाग ने बंगाल की खाड़ी में बहुत भीषण चक्रवाती तूफान ‘यास’ के बनने के संबंध में ब्लू अलर्ट जारी किया है। इसके अगले 24 घंटों में पड़ोसी राज्य ओडिशा, पश्चिम बंगाल में दस्तक देने की संभावना है। अगर ऐसा होता है तो किसानों के लिए दिक्कतें बढ़ सकती है। खरीफ फसलों की बुवाई शुरू हो गई है। अगर जून में मानसूनी बारिश कम हुई तो खरीफ फसलों के उत्पादन पर इसका सीधा असर होगा।

भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि इस बार मानसून समय से पहले यानी 31 मई को केरल पहुंच सकता है। बता दें कि दक्षिणी पश्चिमी मानसून 21 मई को बंगाल की खाड़ी, अंडमान-निकोबार में दस्तक दे चुका है। भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि चक्रवाती तूफान यास 26 मई और 27 मई को तेज होगा। इन दो दिनों के दौरान हवा की गति 60 से 70 किमी प्रति घंटे के बीच रहने की संभावना है। यास का असर 27 और 28 मई को भी जारी रहने की उम्मीद है 

उत्तर प्रदेश में भी दिखेगा तूफान का असर
मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि 28-29 मई को उत्तर प्रदेश में भी तूफान का असर देखने को मिल सकता है। संभावना जताई कि ईस्टर्न यूपी में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है। 29 के बाद वेस्ट यूपी में भी इस तूफान का असर देखने को मिल सकता है।

‘यास’ का मानसून पर बड़ा असर
चक्रवाती तूफान ताउते ने निश्चित तौर पर मानसून को प्रभावित किया है। भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि मानसून पवनों का रुख बदलने से इसकी चाल पर असर हो सकता है। संभावना जताई जा रही है कि मानसून जून अंत तक मध्य भारत पहुंचेगा। जो कि सामान्य से दो हफ्ते लेट है। माना जा रहा है दिल्ली में इस बार मानसून 11-16 जुलाई को दस्तक दे सकता है। आमतौर पर ये 1 जुलाई तक पहुंच जाता है।

किसानों के लिए अलर्ट
खेती के लिए पानी बहुत जरूरी है और करीब 40 फीसदी लोग अभी भी मानसून पर निर्भर है।हालांकि, आज के समय में मानसूनी वर्षा पर किसानों की निर्भरता घटी है। ज्यादातर उत्तर भारतीय राज्यों, पंजाब, यूपी, हरियाणा, बिहार आदि में सिंचाई के दूसरे विकल्प मौजूद हैं। 

1960 के बाद से ट्यूबवेल के जरिये खेतों को सींचा जाने लगा है जिसके कारण अब मानसून की कमी खास असर नहीं डालती है। समस्या केवल उन्हीं इलाकों में है जहां सिंचाई के लिए ट्यूबवेल जैसे साधनों का उपयोग नहीं किया रहा है और जहां किसान पूरी तरह से नहरों एवं मानसून पर आश्रित हैं 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending