अंतरिक्ष में बने इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के सेगमेंट में आई दरार, 80 फीसदी सिस्टम हुआ खराब, 2025 तक टूटने की आशंका

वैज्ञानिक प्रयोग के लिए अंतरिक्ष में बने इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के सेगमेंट में दरार सामने आई है। जुलाई में रूस की लापरवाही के चलते यह स्पेस स्टेशन बेकाबू हो गया था। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने बमुश्किल इस पर कंट्रोल पाया था। जिसके बाद रूसी अंतरिक्ष यात्रियों ने चेतावनी दी है कि भविष्य में यह दरार चौड़ी हो सकती है। इन दरारों से हवा पास हो सकती है या नहीं, इस पर वैज्ञानिकों ने फिलहाल कोई जानकारी नहीं दी है।

अंतरिक्ष एजेंसी का कहना है कि वह 2024 तक इस स्पेस सिस्टम का हिस्सा बनी रहेगी। दरअसल, रशिया के जिस जारया कार्गो मॉड्यूल में दरारें देखी गई हैं, उसे 1998 में लॉन्च किया गया था। वर्तमान में इसका इस्तेमाल स्टोरेज के लिए किया जा रहा है। रशियन स्पेस एजेंसी का कहना है, ऐसा ही रहा तो इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन 2030 काम करने लायक नहीं रहेगा।

इससे पहले भी अंतरिक्ष यात्री इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के उपकरणों के पुराने होने की बात कह चुके हैं। उन्होंने चेतावनी दी थी कि 2025 के बाद ये उपकरण टूट सकते हैं। हाल ही में यह स्पेस स्टेशन नियंत्रण से बाहर भी हो गया था। वैज्ञानिकों ने इसे सॉफ्टवेयर में हुई मानवीय भूल बताया था।

रॉकेट एंड स्पेस कॉर्पोरेशन एनर्जिया के मुख्य अधिकारी ब्लादिमीर सोलोव्योव का कहना है,” इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के जारया मॉड्यूल की कुछ जगहों पर सतही दरारें देखी गई हैं। यहां का इन-फ्लाइट सिस्टम 80 फीसदी तक एक्सपायर हो चुका है। पिछले साल ही ज्यादातर उपकरण एक्सपायर हो चुके थे। इन्हें जल्द ही बदलने की जरूरत है।”

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending