कोरोना वायरस को यूरीन थैरेपी के जरिए किया जा सकता है नष्ट, जानिए क्या है यूरीन थैरेपी

चीन द्वारा कोरोना वायरस को जन्म दिए जाने के बाद से ही इसने दुनिया भर में अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया है। इसने पूरी दुनिया में दहशत का माहौल पैदा कर दिया है। लाखो की तादाद में लोग मर रहे है, हॉस्पिटल में ऑक्सीजन नही है शमशान घाट में जगह नहीं है ऐसे में भारत जैसे देश के सामने कोरोना महामारी का सामना करना बेहद चुनौती पूर्ण हो गया है।
कोरोना से बचने के लिए कई डॉक्टर्स, विशेषज्ञ और who जैसी संस्था ने समय समय पर अपने सुझाव साझा किए है और नई गाइडलाइन जारी की है। इन सब के बीच लेखक ने भी कोरोना वायरस से बचने के लिए एक सुझाव साझा किया है उन्होने कहा कि, दशकों से मेरे अनुभव के आधार पर, एक व्यक्ति जो 30 दिनों की अवधि के लिए 24 घंटे की अवधि में स्व-मूत्र के 1000 मिलीलीटर (एक लीटर) पीता है, वह कोरोना वायरस से कभी संक्रमित नहीं होगा।
उन्होंने कहा, स्वास्थ्य अनुसंधान मंत्रालय (Health Research) और संबंधित सरकारी संगठन को आईसीएमआर सी के तहत एलोपैथी उपचार v / s मूत्र चिकित्सा (Allopathy treatment v/s URINE THERAPY) की प्रभावकारिता और सुरक्षा पर एक तुलनात्मक अध्ययन करना चाहिए। सरकार के तहत संबंधित राष्ट्रीय अनुसंधान संस्थान (CCRYN- सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन योगा एंड नेचुरोपैथी) को इसमें भाग लेने के इच्छुक लोगों के साथ ऐसा अध्ययन करने के लिए निर्देशित किया जा सकता है। यह पूरी तरह से सस्ती है और मूत्र की प्रतिरक्षा क्षमता को स्थापित करेगा। मुझे इस अध्ययन के संचालन में अपने अनुभव और ज्ञान का योगदान देने में खुशी है।
आपको बता दें कि जगदीश भूरानी ने 2 पुस्तकें लिखी है जिनमें से एक का “मूत्र चिकित्सा के प्राकृतिक लाभ” और दूसरी “मूत्र चिकित्सा के साथ कैंसर का इलाज” है

जानिए क्या है यूरीन थैरेपी –
इसमें लोग खूबसूरत और वजन कम करने के लिए खुद का यूरीन पीते है। लोगों की माने तो यूरीन थेरेपी सेहत के लिए काफी फायदेमंद है। इतना ही नहीं इससे चेहरे की मसाज और आंखो में डालकर अपनी रोशनी बढ़ा रहे है। हालांकि डॉक्टरों की मानें तो उनका कहना है कि ऐसी कोई थेरेपी नहीं होती है। लोग खुद का मजाक उड़ाने के साथ-साथ अपनी किडनी को डैमेज कर रहे है। 

क्या कहते है लेखक जगदीश (Jagdish R Bhurani): 
लेखक जगदीश ने बताया, “मैंने उन रोगियों के 75 पर प्रकाश डाला है जिन्होंने मूत्र चिकित्सा के साथ लाभ प्राप्त किया है। मैंने कैंसर, एचआईवी, सेरेब्रल पाल्सी, स्नायु सिंड्रोम और अन्य सभी पुराने रोगों से पीड़ित हजारों लोगों का इलाज / इलाज “मूत्र रोग” से किया है।”

जानिए क्या कहते है यूरिन थैरेपी पर लेखक जगदीश भूरानी: 
1. CANCER के मरीज जहां डॉक्टर्स ने उन्हें इलाज की उम्मीदें दी हैं, उन्हें लाभ मिला है।
2. जो एचआईवी(HIV) रोगी एआरटी (ART) टैबलेट पर थे उन्हें स्वास्थ्य में सुधार नहीं मिला।
3. सेरेब्रल पाल्सी के रोगी जिन्हें 9 से 10 वर्षों तक कोई सुधार नहीं मिला, उन्हें लाभ मिला।
4. NEPHRITIC सिंड्रोम के रोगी जिन्हें जीवन भर लंबे समय तक स्टेरॉयड की गोलियां लेने की सलाह डॉक्टर द्वारा दी गई थी, उन्हें लाभ मिला है और वे स्टेरॉयड नहीं ले रहे हैं और पहले की तुलना में अधिक स्वस्थ हैं।
मूत्र शरीर को मजबूत कर सकता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है और बीमारी से लड़ने में मदद करता है। इसमें हमारे शरीर को वायरस के संक्रमण को हराने के लिए आवश्यक प्रोटीन और विटामिन होते हैं।
मूत्र जिसे “SHIVAMBU” के रूप में जाना जाता है – (जीवन का अमृत) हीलिंग की पूरी तरह से दवा रहित प्रणाली है और रोगों का इलाज मेजबान पीढ़ी से पीढ़ी तक जारी है। “स्व मूत्र चिकित्सा” की इस शक्तिशाली प्रथा को VEDAS में प्राचीन पुस्तक DAMMAR TANTRA में संदर्भित किया गया है। यूरीन थैरेपी 100% सुरक्षित है और यह योग अभ्यास का प्राचीन तरीका भी है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending