औषधियों के गुणों से भरपूर है धनिये का पानी, जानिए इसे बनाने की विधि और इससे जुड़े फायदे

धनिया के बीज (Coriander Seed) को औषधीय गुणों से भरपूर माना जाता है। इसका सेवन कई बीमारियों से बचाने के साथ ही आपको सेहतमंद (Healthy) रखने में भी मददगार साबित हो सकता है। हाल ही में आयूष मंत्रालय ने भी इसे कोविड-19 गाइडलाइन में स्‍वास्‍थ लाभ के रूप में इसे भोजन में शामिल करने का निर्देश जारी किया था। अगर इसके फायदों की बात करें तो यदि रोजाना धनिया को भोजन में शामिल किया जाए तो यह शरीर के लिए जरूरी विटामिन ए, सी सहित कई पोषक तत्‍वों की आपूर्ति करता है।
भोजन विशेषज्ञ इसे हर्बल चाय, काढ़ा आदि के रूप में भी प्रयोग करने की सलाह दे रहे हैं। तो आखिर धनिया का पानी कैसा बनाया जाता है, इसे पीने के फायदे और नुकसान क्या-क्या हैं आइए जानते हैं।

धनिया पानी बनाने की विधि:-

एक बर्तन में एक ग्‍लास पानी लें और इसे गैस पर उबालें। जब यह पानी उबलने लगे तो इसमें एक चम्‍मच धनिया का बीज डालें। इसे तब तक उबलने दें जब तक कि पानी आधा ना हो जाए। इस पानी को छान लें और गर्मागरम इसे चाय की तरह पिएं।
इसके साथ ही आप चाहो तो एक ग्‍लास पानी में एक चम्‍मच धनिया के बीज या पत्‍ते को रात भर छोड़ दें। सुबह उठकर इस पानी का सेवन करें।

धनिया पानी के अचूक फायदे: –

पाचन में सुधार करता है
धनिया, पाचन अग्नि को नियंत्रित करके पेट में पित्त और ऐसिडिटी के लेवल में बढ़ोतरी होने से रोकता है जिससे पेट में दर्द, पेट में गैस बनना, पेट फूलना, बदहजमी आदि पाचन से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में मदद मिलती है।

वजन घटाने में सहायक
धनिया के पानी में क्वेरसेटिन नाम का तत्व भी पाया जाता है जो आपके मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया को तेज करता है। इससे शरीर में जमा फैट को जलाने में मदद मिलती है जिससे तेजी से आपका वजन कम होने लगता है। 

शरीर को डीटॉक्स देता है

धनिया विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालकर शरीर को अंदर से साफ और डीटॉक्स करता है। यह फैट और नेक्रोसिस को शरीर से बाहर निकालकर लिवर को भी साफ करने में मदद करता है। यह बैक्टीरिया और फंगल संक्रमण के साथ-साथ परजीवियों के इलाज में भी प्रभावी है।

थायराइड की रोकथाम में सहायक
अगर आपके शरीर में थायराइड की कमी है या फिर अगर थायराइड की अधिकता है तो दोनों ही तरह की बीमारी में धनिया का पानी आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। धनिया में फोलेट, एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन सी, बीटा-कैरोटीन समेत कई प्रकार के खनिज और विटामिन्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो थायराइड हार्मोन को विनियमित करने में मदद करता है। 
शुगर कम करने में मददगार
धनिया के बीजों में मौजूद इथेनॉल को सीरम ग्लूकोज या ब्लड शुगर को कम करने के लिए प्रभावी माना जाता है। खून में ब्लड शुगर की अधिक मात्रा टाइप 2 डायबिटीज का एक प्रमुख जोखिम कारक है। लिहाजा वे लोग जिनका ब्लड शुगर लेवल पहले से कम हो उन्हें धनिया का पानी पीने से बचना चाहिए वरना उनका ब्लड शुगर लेवल औऱ ज्यादा कम होने का खतरा हो सकता है।

हृदय रोग के जोखिम को कम करता है
धनिया का पानी गुड कोलेस्ट्रॉल को प्रभावित किए बिना बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। इस के साथ ही यूरिन के माध्यम से, सिस्टम में जमा अतिरिक्त सोडियम शरीर से बाहर निकल जाता है जिससे ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। जिससे आपका हृदय रोग का जोखिम भी कम हो जाता है और आपका हार्ट हेल्दी रहता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending