धर्मांतरण कोई समस्या नहीं, अपने घर में सम्मान न मिले तो दूसरे के घर जाएँगे ही: पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और ‘हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM)’ के अध्यक्ष जीतन राम माँझी ने धर्मांतरण के मामले मे टिप्पणी करते हुए कहा की हिन्दू धर्म के भीतर भेदभाव धर्मांतरण का बड़ा कारण है। उन्होंने कहा की, “धर्म को लेकर भेदभाव ही धर्मांतरण का प्रमुख कारण है। जब अपने घर में मान न मिले तो स्वभाविक है लोग दूसरे घरों में जाएँगे ही। धर्म-परिवर्तन से हिंदुस्तान की एकता पर कोई खतरा नहीं है क्योंकि यह धर्मनिरपेक्ष (Secular) देश है। यहाँ आपको इसकी स्वतंत्रता है कि आप अपने मन के अनुसार धर्म पालन कर सकते हैं, इसका प्रचार-प्रसार कर सकते हैं।”

माँझी ने कहा कि ऐसी स्थिति में कौन किस धर्म में जा रहा है, उनकी समझ में ये कोई समस्या का विषय नहीं है। जब अपने घर में मान, इज्जत व मर्यादा न मिले और दूसरी जगह मान इज्जत और मर्यादा मिल रही है तो स्वाभाविक है लोग वहीं जाएँगे। माँझी ने साथ ही कहा कि घर के मालिक को समझना चाहिए कि आखिर ये लोग क्यों जा रहे हैं और क्या आपके यहाँ उनका विकास संभव नहीं है?

साथ ही जीतन राम माँझी ने कहा कि आप छुआछूत की बात करते हो, लेकिन याद रखने की ज़रूरत है कि जब-जब अपना घर लचीला होता है, तब-तब उस धर्म का प्रचार हुआ है। साथ ही उन्होंने कहा कि जब-जब धर्म कड़ा हुआ है, तब उसका प्रचार हुआ है। एक मुख्यमंत्री जब किसी मंदिर में जाते हैं तो उनके निकलने के बाद उसे धोया जाता है। उन्होंने पूछा कि इसे क्या समझा जाए?

उन्होंने गया के एक गांव में सभी के एक साथ किए धर्म परिवर्तन पर दावा करते हुए कहा कि महादलितों की उपेक्षा से उनकी भावनाओं को ठेस पहुँची, जिसके बाद उन्होंने धर्म-परिवर्तन किया। साथ ही उन्होंने कहा की महादलित बिना किसी दबाव के ये सब कर रहे हैं। उन्होंने इसे देश की सुरक्षा के लिए खतरा होने की बात भी नकार दी। उन्होंने कहा कि अगर स्थिति यही रही तो धर्म-परिवर्तन की कई अन्य घटनाएँ भी सामने आएँगी। इस दौरान उन्होंने बाबसाहब भीमराव आंबेडकर की भी प्रशंसा की।

गौरतलब हो की बीते दिनों गया में पिछले 2 वर्षों में ही जिले के लगभग आधा दर्जन गाँवों में धर्मांतरण हुआ है।गया के नैली पंचायत के बेलवादीह गाँव में 50 हिन्दू परिवारों द्वारा ईसाई मजहब अपनाए जाने की खबर आई है। इसी तरह 6 वर्ष पहले मानपुर प्रखंड के खंजाहापुर गाँव में 500 लोग हिन्दू से बौद्ध बन चुके है। ध्यान देने वाली बात ये भी है कि जिन लोगों पर धर्मांतरण कराने के आरोप लगे हैं, उनमें अधिकतर पहले हिन्दू हुआ करते थे।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending