तमिलनाडु में सांप्रदायिक हिंसा बढ़ाने की साजिश, मां पार्वती और गणेश की तोड़ी मूर्ति, शिवलिंग को दो हिस्सों में काट डाला

पाकिस्तान में हिंदू मंदिरों पर तोड़फोड़ और मूर्तियों को क्षतिग्रस्त करने की घटना होना आम बात है वहां से रोजाना ऐसी खबरें सामने आती रहती है। किंतु हिंदुस्तान में ही जब ऐसी घटनाएं होने लग जाएं तो पड़ोसी देश से और क्या उम्मीद की जा सकती है। जी हां, ऐसा ही एक खून खौला देने वाला मामला भारत के दक्षिणी हिस्से के राज्य तमिलनाडु से सामने आया है।

जहां मौजूद कट्टरपंथियों ने अपनी नफरत का शिकार एक बार फिर से हिंदू मंदिरों को बनाया है। दरअसल, दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के पुदुक्कोट्टई जिले में स्थित एक शिव मंदिर को हमलावरों ने नष्ट कर दिया। ये मंदिर चोल साम्राज्य के काल का था। वहाँ पर विराजित देवों की मूर्तियों को तोड़ दिया गया। मंदिर के अंदर भगवान शिव, माँ पार्वती और गणेश की मूर्ति थी। शिवलिंग को काट दिया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इस घटना का खुलासा उस वक्त हुआ, जब 2 दिन पहले ग्रामीण मंदिर परिसर के अंदर गए। उन्होंने वहाँ इस चौंकाने वाले नजारे को देखा। मंदिर के फर्श पर भगवान शिव और शिवलिंगम की क्षतिग्रस्त मूर्तियों को देखकर ग्रामीण दंग रह गए। हमलावरों ने शिवलिंग को दो टुकड़ों में काट दिया था और शिव की मूर्ति का सिर काट दिया था।

घटना के बाद, ग्रामीणों ने पुलिस से अपराधियों को जल्द से जल्द खोजने का अनुरोध किया और आरोप लगाया कि यह राज्य में हिंदू मंदिरों पर एक प्रेरित हमला है। भक्तों ने कहा कि द्रमुक के सत्ता में आने से राज्य में हिंदू विरोधी तत्वों को बल मिला है। ग्रामीणों ने कहा कि मंदिर के दरवाजे हमेशा खुले रहते हैं और असामाजिक तत्वों ने स्थिति का फायदा उठाते हुए देवताओं के सिर काटने का जघन्य कृत्य किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अज्ञात हमलावरों के एक समूह ने पिछले सप्ताह पुदुक्कोट्टई जिले के कीझनांचूर गाँव में स्थित स्थानीय मंदिर में घुसकर वहाँ स्थापित शिवलिंगम और भगवान शिव की एक मूर्ति को मंदिर में तोड़-फोड़ कर उसे क्षतिग्रस्त कर दिया था।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending