लखीमपुर घटना पर कांग्रेस ने योगी आदित्यनाथ को लिया निशाने पर, कहा- किसानों को लेकर किसी भी हद तक जाने को तैयार

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसक झड़प में अब तक चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत पुष्टि हुई है। जिसके बाद लगातार भारतीय जनता पार्टी विरोधियों के निशाने पर आ पहुंची है। वहीं इस कड़ी में कांग्रेस ने भी अपनी कमर कस ली है। अपनी जमीन खो बैठी कांग्रेस ने फिर से अपने कार्यकर्ताओं में जान फूंक दी है।

जैसे उन्हें आगामी चुनावों के लिए एक एक बड़ा चुनावी मुद्दा मिल गया हो। बहरहाल कांग्रेस ने अपने आक्रामक तेवरों के जरिए साफ कर दिया है कि वह किसानों के मुद्दे पर किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार है। कांग्रेस का कहना है कि किसान उसके लिए राजनीतिक मुद्दा नहीं है। वहीं कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि जिस तरह बेलछी नरसंहार के बाद इंदिरा गांधी बेलछी गई और उसके बाद सत्ता में वापसी की।

ठीक उसी तरह प्रियंका के जुझारुपन का फायदा पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में मिलेगा। राजनीति विशेषज्ञ मानते हैं कि लखीमपुर खीरी की घटना का असर यूपी के साथ पंजाब और उत्तराखंड चुनाव में भी दिखाई देगा। पार्टी किसानों की इस नाराजगी को वोट में तब्दील करने की कोशिश करेगी। गौरतलब हो की रविवार को केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र और UP के डिप्टी CM केशव मौर्य एक कार्यक्रम के लिए लखीमपुर खीरी पहुंचे थे।

जब इसकी जानकारी कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को लगी, तो वे हेलिपैड पर पहुंच गए। किसानों ने रविवार सुबह 8 बजे ही हेलिपैड पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद, दोपहर करीब 2.45 बजे सड़क के रास्ते मिश्र और मौर्य का काफिला तिकोनिया चौराहे से गुजरा, तो किसान उन्हें काले झंडे दिखाने दौड़ पड़े। इसी दौरान काफिले में शामिल अजय मिश्र के बेटे आशीष ने अपनी गाड़ी किसानों पर चढ़ा दी।

यह देखकर किसानों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने आशीष मिश्र की गाड़ी समेत दो गाड़ियों में आग लगा दी। इस पूरे घटनाक्रम में 4 किसान समेत आठ लोगो की मौत की पुष्टि हुई है। जिसको लेकर किसानों मे बेहद आक्रोश है और उन्होंने इस पूरे मामले में यूपी प्रशासन के बजाय उच्चतम न्यायालय से जांच की मांग की है और मृत किसानों के लिए मुआवजे की अपील भी की है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending