गर्मी के मौसम में आम खाना होता है बेहद फायदेमंद, स्‍वाद के साथ देता है कई हैरान कर देने वाले फायदे

गर्मियों के मौसम में आम खाना लगभग हर किसी को पसंद होता है। बड़ो से लेकर बच्चों तक सभी आम खाना पसंद करते हैं। आम का केवल स्‍वाद ही लाजवाब नहीं होता बल्कि ये फल पोषक तत्‍वों की  भरमार है। हाई फाइबर और लो कैलोरी की वजह से यह वजन कम करने में भी काफी सहायक होता है। देश के अलग अलग हिस्‍सों में आम अलग अलग स्‍वाद, आकार और रंग वाले आम आपको मिल जाएंगे जो अपने खास फ्लेवर की वजह से दुनियाभर में मशहूर हैं।

फलों का राजा आम न केवल स्‍वाद के लिए बल्कि सेहत के लिहाजे से भी फायदेमंद माना जाता है। शोध में पाया गया है आम में भरपूर पोषक तत्‍व पाए जाते हैं जो शरीर के लिए काफी अच्छा माना जाता है। तो चलिए जानते हैं आम हमारे सेहत के लिए कितना फायदेमंद है और इसके सेवन से हमें किन बीमारियों से छुटकारा मिलता है।

1.डाइजेशन में फायदा पहुंचाए
आम फाइबर का एक बेहतर स्तोत्र है। जो हमारे पाचन तंत्र को हेल्‍दी रखने में मदद करता है। फाइबर की वजह से इंटेस्‍टाइन आसानी से क्‍लीन होते हैं साथ ही कब्‍ज की परेशानी नहीं होती। आम खाने का एक अन्य फायदा यह भी है कि यह हमारे शरीर के एंजाइम को बढ़ाता है जिससे किसी भी तरह के भोजन को आसानी से पचाया जा सकता है।

2.थायरॉयड में फायदेमंद
आम में पोटेशियम, मैग्‍नीशियम और विटामिन सी पाया जाता है और इस फल में मौजूद मैग्‍नीशियम थायरॉयड की समस्‍या में राहत दिलाता है। इसके अलावा आम ब्‍लड प्रेशर को बेहतर बनाने में काम करता है।

3.स्किन के लिए लाभदायक
आम में मौजूद विटामिन ए चेहरे पर कील-मुंहासे को होने से रोकता है साथ ही एजिंग को दूर करता है। वहीं इसमें पाया जाने वाला विटामिन सी कॉलेजन का उत्‍पादन बढ़ाता है जो बाल और स्किन दोनों को हेल्‍दी रखने में सहायक है।

4.आंखों की रोशनी बढ़ाये
गर्मियों के दिनों में सबसे ज्यादा खाये जाने वाले आम में विटामिन ए, लुटिन और जिऐकजैन्थिन पोषक तत्‍व पाए जाते हैं जो आंखों को हेल्‍दी रखने में बहुत मददगार हैं। आम में पाए जाने वाला लुटिन और जिऐकजैन्थिन सूरज की रोशनी से आंखों की रक्षा करता है,जबकि विटामिन ए विजन की समस्‍या को ठीक करता है।

5.पीसीओडी में लाभदायक
ऐसी महिलाएं या लड़किया जो पीसीओडी की परेशानी से जूझ रही हैं उनके लिए भी आम का सेवन करना बहुत फायदेमंद है। आम में मौजूद विटामिन बी6  हार्मोन को विनियमित करता है और पीएमएस को कम करने में आपकी मदद कर सकता है।  

 नोट: यह लेख सिर्फ आपकी सामान्य जानकारी प्रदान करती है। ये किसी योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। इसलिए ध्यान रहे इन पर अमल करने से पहले किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर की सलाह एक बार अवश्य लें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending