भारतीय लोगो के चरित्र को दोहरा बताने वाले कमीडियन वीर दास ने मांगी माफी, कहा – गर्व है हिंदुस्तान पर

भारतीय लोगो के चरित्र को दोहरा बताने वाले कमीडियन वीर दास अब विवादो से घिर चुके है। देश भर में उनका चौतरफा विरोध हो रहा है। अब तक उनके खिलाफ दर्जनों शिकायतें दर्ज हो चुकी है। इस बीच मामला बढ़ते देख कमीडियन वीर दास ने ट्विटर पर एक लंबा-चौड़ा नोट शेयर किया है। जिसमे वह अपने के लिए लोगो से माफी मांगते नजर आ रहे है। उन्होंने अपना बयान जारी करते हुए कहा कि उनकी मंशा देश का अपमान करने की नहीं थी। 

कॉमेडियन वीर दास अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट करते हुए लिखते हैं की, ‘वह वीडियो दो बहुत ही अलग भारत के द्वंद्व के बारे में एक व्यंग्य है। जैसे किसी भी देश के भीतर उजाला और अंध‍ियारा, अच्छाई और बुराई होती है। इनमें से कोई भी बात किसी रहस्य की तरह नहीं है। यह वीडियो हम सभी से अपील करता है कि हम यह कभी न भूलें कि हम महान हैं। जो हमें महान बनाता है उस पर ध्यान केंद्रित करना कभी बंद न करें।’

वह आगे लिखते है की, ‘यह देशभक्ति से भरे हुए तालियों की गड़गड़ाहट के रूप में समाप्त होता है, उस देश के लिए जिसे हम सभी प्यार करते हैं, विश्वास करते हैं और जिस पर हमें गर्व है। हमारे देश में सुर्खियों से कहीं बढ़कर है, एक गहरी सुंदरता। यही वीडियो की बात है और तालियों की गड़गड़ाहट का कारण है।’ वीर दास कहते हैं कि लोग नफरत की बजाय आशा के साथ देश के लिए जयकारा करते हैं। उन्‍होंने अपने फैन्‍स से अपील की है‍ कि वह वीडियो के छोटे-छोटे एडिटेड क्‍ल‍िप्‍स को देखकर गुमराह न हों।

वीर दास ने लिखा है, ‘कृपया एडिटेड स्‍न‍िपेट्स से मूर्ख मत बनिए। लोग आशा के साथ भारत के लिए जयकारा करते हैं, नफरत से नहीं। लोग भारत के लिए सम्मान के साथ ताली बजाते हैं, द्वेष से नहीं। आप नकारात्‍मकता के साथ टिकट नहीं बेच सकते हैं, तालियां नहीं कमा सकते हैं, या महान लोगों का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकते हैं। यह सब सिर्फ गर्व के साथ हो सकता है। मुझे अपने देश पर गर्व है और मैं उस गौरव को दुनिया भर में ले जाता हूं।’

उन्होंने आखिर में लिखा, ‘मेरे लिए, दुनिया में कहीं भी लोगों से भरा एक कमरा, हिंदुस्‍तान का जयकारा, शुद्ध प्रेम है। मैं आपसे भी वही पूछता हूं, जो मैंने उन दर्शकों से पूछा… आप उजियारे पर फोकस करें, हमारे देश की महानता को याद रखने और प्यार बांटने के लिए।’ बता दें वीर दास ने हाल ही में अमेरिका में भारत के लोगों के चरित्र को दोहरा बताया था। उनका कहना था कि भारत में दिन में लड़कियों की पूजा और रात को गैंगरेप होते है। इतना ही नहीं वीर दास ने किसानों के प्रदर्शन को लेकर भी भारत का मजाक उड़ाते है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending