दावा; कम उम्र के बच्चो की लम्बाई में देरी का जिम्मेदार ब्रेन में मौजूद रिसेप्टर

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी, लंदन की क्वीनमेरी यूनिवर्सिटी, ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी, मिशिगन यूनिवर्सिटी और वंडरबिल्ट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की एक टीम ने इंसान की घटती लंबाई और कम उम्र के बच्चो की लम्बाई में देरी का जिम्मेदार ब्रेन में मौजूद खास तरह रिसेप्टर को बताया है। वैज्ञानिकों का मानना है की इंसान के ब्रेन में मौजूद यह रिसेप्टर उन हार्मोन्स को कंट्रोल करता है जो शरीर की लम्बाई और सेक्सुअल मैच्योरिटी में अहम रोल अदा करता है।

ब्रेन के हायपोथैलेमिक न्यूरॉन्स वाले हिस्से में मिलेनोकॉर्टिन-3 रिसेप्टर (MC3R) पाया गया। यही लम्बाई और सेक्सुअल मैच्योरिटी को कंट्रोल करता है। जब ये रिसेप्टर ठीक से नहीं काम करता है तो इंसान की लम्बाई ठीक से नहीं बढ़ पाती और लोग कद में छोटे रह जाते हैं। साथ ही वो देर से जवान होते हैं।

इस पर रिसर्च के लिए अंतरराष्ट्रीय शोधकर्ताओं की टीम ने 5 लाख लोगों को शामिल किया। इनकी जांच की गई। जांच में सामने आया कि इनमें जिन हजारों लोगों के MC3R जीन में बदलाव हुआ था, उनमे 812 महिलाएं शामिल थी। शोधकर्ताओं के मुताबिक, अमेरिका और यूके में पुरुषों की औसत लम्बाई 5 फुट 9 इंच है। वहीं, महिलाओं की औसत लम्बाई 5 फुट 3 इंच है। 

शोधकर्ताओं का मानना है, रिसर्च के नतीजे इंसानों के लिए कई तरह से फायदेमंद साबित होंगे। अब ऐसी दवाएं तैयार की जा सकेंगी जो इस रिसेप्टर को बेहतर काम करने में मदद करेंगी ताकि इंसान की लम्बाई न रुके और इंसान समय से जवान हो सके।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending