दालचीनी के हैं बड़े फायदे, इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ ही बीमारियों को दूर भगाने में करती है मदद

देश भर में कोरोना ने अपने पैर पसार रखे है जहां पर वैक्सीन भी बेअसर सी नज़र आ रही है कोरोना को मात देती ऐसी कोई दवाई अभी तक उपलब्ध नही हुई है। जिसके कारण डॉक्टर और वैज्ञानिक समय समय पर यह तर्क देते रहते है की खान पान की सही व्यवस्था ना होने की वजह से भी कोरोना जैसी अति गंभीर बीमारी पनप सकती है। डॉक्टर सभी को अपना खान-पान और इम्युनिटी सही रखने की सलाह देते हैं. वैसे तो कई चीजें हैं जो आपकी सेहत के लिए फायदेमंद हैं लेकिन अगर आप अपने खाने में दालचीनी का उपयोग करते हैं तो ये आपके लिए काफी फायदेमंद रहेगा।
दालचीनी का सेवन करने से यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को संतुलित बनाकर हृदय रोगों के खतरे को कई गुना तक कम कर सकती है. इसलिए आप भी अपनी डायट में दालचीनी को जरूर शामिल करें

आइए जानते हैं दालचीनी से दूर होने वाली बीमारियां –

सर्दी जुकाम 
सर्दी जुकाम में दालचीनी काफी कारगार है इसके सेवन से हमें जल्दी आराम मिल जाता है, दालचीनी से हम अपनी इम्यूनिटी बढ़ा सकते हैं. दालचीनी सर्दी जुकाम और खांसी की समस्या काम करती है.

दिल की बीमारियां
दालचीनी दिल की बीमारियों को भी ठीक करती है, एक परीक्षण के दौरान यह पाया गया कि दालचीनी के सेवन से शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा संतुलित रहती है जिससे हार्ड संबंधित कई सारी बीमारियों का खतरा कम हो जाता है.
कैंसर
दालचीनी कैंसर जैसी बड़ी बीमारी से भी बचा जा सकता है, दालचीनी का सेवन करने से कैंसर जैसी घातक बीमारी से भी बचा जा सकता है नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक बायो टेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन की मानें तो दालचीनी में एंटी कैंसर गुण पाए गए हैं जो कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं.

डायबिटीज
दालचीनी डायबिटीज में भी अच्छी होती है, अगर किसी को डायबिटीज है तो दालचीनी के सेवन करने से उसकी ब्लड शुगर की मात्रा संतुलित रहती है इससे इनको भी संतुलित बनाए रखने में मदद मिल सकती है ऐसे में डायबिटीज के खतरे को भी काफी हद तक ठीक किया जा सकता है.
चर्म रोग
चर्म रोग के लिए भी है कारगर है दालचीनी इसके सेवन से आपको बैक्टीरियल और फंगल इंफेक्शन से भी बचाया जा सकता है क्योंकि इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं इसीलिए दालचीनी को एक औषधि के तौर पर भी लिया जाता है.

यहां हम आपको किन चीजों में कारगार है दालचीनी –

दालचीनी का सेवन करने से यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को संतुलित बनाकर हृदय रोगों के खतरे को कई गुना तक कम कर सकती है। इसलिए आप भी अपनी डायट में दालचीनी को जरूर शामिल करें।

दालचीनी का सेवन अगर नियमित रूप से किया जाए तो डायबिटीज के खतरे को कई गुना तक कम किया जा सकता है।

एक स्टडी में यह देखा गया है कि दालचीनी का सेवन अधिक रूप से करने के कारण मस्तिष्क की कार्यशैली भी काफी तेज हो जाती है।

दालचीनी में एंटी इंफ्लेमेटरी क्रिया होती है जो शरीर में होने वाली सूजन के खतरे को कम कर सकती है।

अनेक लोग बार-बार शिकायत करते हैं कि उनकी आंखें फड़कती रहती हैं। दालचीनी का तेल आंखों के ऊपर (पलक पर) लगाएं। इससे आंखों का फड़कना बन्द हो जाता है और आंखों की रोशनी भी बढ़ती है।

जिन लोगों को दांत में दर्द की शिकायत रहती है, वे लोग दालचीनी का फायदा ले सकते हैं। दालचीनी के तेल को रूई से दांतों में लगाएं। इससे आराम मिलेगा। इसके साथ ही दालचीनी के 5-6 पत्तों को पीसकर मंजन करें। इससे दांत साफ और चमकीले हो जाते हैं।

अगर आप सिर दर्द से परेशान रहते हैं, तो दालचीनी का सेवन करें। दालचीनी के 8-10 पत्तों को पीसकर लेप बना लें। दालचीनी के लेप को मस्तक पर लगाने से ठंड, या गर्मी से होने वाली सिर दर्द से आराम मिलता है आराम मिलने पर लेप को धोकर साफ कर लें। दालचीनी के तेल से सिर पर मालिश करने से भी सिरदर्द से जल्दी आराम मिलता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending