इस मंत्र के जाप मात्र से दूर हो जाते है सभी काल – कष्ट, रोज सुबह जरूर करें इस शक्तिशाली मंत्र का जाप

हमारे वेद, पुराणों में कई ऐसे मंत्र हैं जिनका अगर निष्ठापूर्वक उच्चारण और जाप किया जाए तो जीवन के कई कष्टों को दूर किया जा सकता है। नियम और निष्ठापूर्वक कई मंत्रों का जाप करना जीवन में इंसान को नहीं सफलताओं को दिला सकता है और जीवन के कई काल कष्टों को दूर कर सकता है। इस लेख में हम आपको एक ऐसे मंत्र के बारे में बताने जा रहे हैं जहां अगर आप इस मंत्र का जाप सुबह उठते ही करते हैं, तो आपको निश्चित तौर पर इसका फायदा कुछ ही दिनों में दिखाई देगा। इस मंत्र का जाप करने से आपके घर में हो रही आर्थिक परेशानियां, पैसों की कमी, क्लेश और अन्य परेशानियों से आपको तुरंत छुटकारा मिलता है।

आइए इस मंत्र के बारे में और इसे किस प्रकार उच्चारण करना चाहिए इस बारे में जाने।

अगर कोई व्यक्ति अपने जीवन में आर्थिक परेशानियां झेल रहा है या फिर उसके जीवन में काफी कुछ अजीब सा हो रहा है तो उसे एक मंत्र का जाप जरूर करना चाहिए। यह मंत्र है –

“कराग्रे वसति लक्ष्मी कर मध्ये सरस्वती
कर मूले तू ब्रह्मा, प्रभाते कर दर्शनम् “

इस मंत्र का मतलब

अब बात अगर इस मंत्र के मतलब की करें तो इस मंत्र का अर्थ है कि ” मेरे हाथ के अग्रभाग में देवी लक्ष्मी जी का निवास है। हाथ के मध्य में विद्यादायिनी सरस्वती जी एवं मूल भाग में भगवान श्री हरि विष्णु का निवास है। तो प्रभात काल में मैं इन सभी के दर्शन करता हूं।

इस मंत्रा का जाप करने के नियम

अब बात अगर ऊपर लिखे इस मंत्र की करें तो यह काफी शक्तिशाली मंत्र है। इस मंत्र का जाप हर व्यक्ति को सुबह-सुबह उठते के साथ ही अपने दोनों हथेलियों को एक साथ मिलाकर और इस मंत्र का जाप करना चाहिए। जब आप इस मंत्र का एक बार जाप कर ले तो उसके बाद अपनी दोनों हाथों की हथेलियों को जोर से रगड़े और इसकी गर्माहट अपनी आंखों पर ले।  अगर आप नियमित तौर पर इस मंत्र का जाप सुबह उठते ही बिना किसी कार्य को किए करते हैं तो आपको निश्चित तौर पर फायदा होगा। आपके जीवन में आ रही आर्थिक परेशानी अन्य काल कष्ट और क्लेश जल्द ही दूर हो जाएंगे। खासकर छात्रों को इस मंत्र का जाप सुबह उठकर जरूर करना चाहिए।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending