11 मई को मनाये वैशाख अमावस्या, इस दिन पितृ को खुश करने के लिए दान करे

हिंदू धर्म में वैशाख अमावस्या का विशेष महत्व होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, वैशाख अमावस्या को धर्म-कर्म और पितरों के तर्पण के लिए बेहद शुभ माना जाता हैं। 

मंगलवार, 11 मई को वैशाख माह की अमावस्या है। इसे सतुवाई अमावस्या भी कहते हैं। इस दिन पितरों के लिए श्राद्ध-तर्पण आदि शुभ काम करना चाहिए। जरूरतमंद लोगों को अनाज दान में दें। मंगलवार को अमावस्या होने से इसे भौम अमावस्या कहते हैं।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अमावस्या के दिन गंगा स्नान करना चाहिए। इस दिन गंगा स्नान करने का बहुत अधिक महत्व होता है। इस बार लॅाकडाउन की वजह से गंगा स्नान करना संभव नहीं है, इसलिए घर में सभी पवित्र तीर्थों का ध्यान करते हुए स्नान करें। अगर, आपके घर में गंगा जल है तो इस दिन स्नान करने वाले जल में थोड़ा सा गंगा जल मिला लें।

11 मई को पड़ने वाली अमावस्या को सुतवाई अमावस्या और भौमावस्या के नामों से भी जाना जाता है।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मंगलवार के दिन सूर्य और चंद्रमा जब एक ही राशि में या फिर एक-दूसरे के समीप वाली राशि में हो तो इस अमावस्या की तिथि को भौमावस्या कहा जाता है. मंगलवार को चंद्रमा और सूर्य मेष राशि में विराजमान रहेंगे। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending