क्या कोलकाता के इस्लामिया अस्पताल में केवल मुस्लिमों का ही इलाज होगा, जानें इस दावे की सच्चाई

सोशल मीडिया अफवाहों का केंद्र बनते जा रहा है हर दूसरे तीसरे दिन फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सऐप, और इंस्टा पर फर्जी खबरें शेयर और पोस्ट होती रहती है और देखते ही देखते वायरल हो जाती है। इन दिनों कोलकाता का एक अस्पताल सोशल मीडिया पर विवाद का केंद्र बना हुआ है। सोशल मीडिया पर कोलकाता के मेयर फिरहाद हाकिम की एक पुनर्निर्मित इस्लामिया हॉस्पिटल का उद्घाटन करते हुए दो तस्वीरें साझा की हैं। जिसमे दावा किया जा रहा है की हाकिम ने जिस नए अस्पताल का उद्घाटन किया है वह केवल मुसलमानों के इलाज के लिए खोला गया है।

क्या है वायरल हो रहा दावा
कई फेसबुक यूजर्स ने तृणमूल कांग्रेस के नेता और कोलकाता के मेयर फिरहाद हाकिम की एक पुनर्निर्मित इस्लामिया हॉस्पिटल का उद्घाटन करते हुए दो तस्वीरें साझा की हैं। तस्वीरों के साथ ममता सरकार पर अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण का आरोप लगाते हुए उन्होंने दावा किया है कि हाकिम ने जिस नए अस्पताल का उद्घाटन किया है वह केवल मुसलमानों के इलाज के लिए खोला गया है।

वायरल दावे की सच्चाई
इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) की पड़ताल के मुताबिक, यह अस्पताल 1926 में बना था, लेकिन इमारत के जर्जर होने के कारण यह अस्पताल पिछले 5 साल से बंद था और हाल ही में कोरोना मरीजों के लिए अस्पताल को दोबारा खोला गया है और इसमें किसी भी जाति या धर्म का व्यक्ति अपना इलाज करा सकता है। अस्पताल में कोरोना मरीजों के लिए 125 बेडों की सुविधा भी उपलब्ध है। हालांकि, रिपोर्टों के अनुसार, 2012 में, दक्षिण 24 परगना के भांगर में विशेष रूप से मुसलमानों के लिए एक अस्पताल बनाने का प्रस्ताव रखा गया था, लेकिन सरकार की तीखी आलोचना के बाद यह योजना परवान नहीं चढ़ सकी।

जानिए किसने क्या कहा??
कोलकाता के इस्लामिया अस्पताल के महासचिव और कोलकाता नगर निगम के प्रशासक मंडल के सदस्य अमीरुद्दीन ने एक अखबार को बताया कि, ‘कोई भी कोविड रोगी, चाहे वह किसी भी जाति, धर्म या वर्ग से संबंध रखता हो अस्पताल में अपना इलाज करा सकता है।’ चारिंग क्रॉस नर्सिंग होम के मालिक राहुल गाड़़िया से बात की तो उन्होंने बताया कि, ‘यह दावा बिल्कुल गलत है। इस अस्पताल में कोई भी मरीज अपना इलाज करा सकता है। हम मुस्लिम हैं, लेकिन यहां हर कर्मचारी मुस्लिम नहीं है। यहां किसी भी धर्म का मरीज इलाज करा सकता है।’ बता दें कि इस्लामिया अस्पताल ने कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए डॉक्टरों, नर्सों और अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए चारिंग क्रॉस नर्सिंग होम के साथ करार किया है। वहीं अस्पताल का उद्घाटन करते समय फिरहाद हाकिम ने कहा कि राज्य सरकार ने अस्पताल के जीर्णोद्धार के लिए 3.75 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं और यहां सभी मरीजों का इलाज मुफ्त होगा। 

किसी सूचना या अफवाह पर संदेह हो तो हमसे संपर्क करें
अगर आपको ऐसी किसी भी मैसेज या अफवाह पर संदेह है जिसका असर समाज, देश और आप पर हो सकता है तो हमें बताएं। आप हमें नीचे दिए गए किसी भी माध्यम के जरिए जानकारी भेज सकते हैं।

वॅाट्सऐप नंबर/ टेलीग्राम नंबर+919810553618
ईमेलV3newsindia@gmail.com
आप हमसे हमारे ईमेल आईडी V3newsindia@gmail.com या फिर वॅाट्सऐप / टेलीग्राम नंबर +919810553618 के जरिए संपर्क कर सकते हैं। किसी भी सुझाव या शिकायत के लिए V3newsindia@gmail.com पर ईमेल भेजें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending