Budh Purnima 2021: इस दिन मनाई जाएगी बुद्ध पूर्णिमा, यहां जानें समय और पूजन विधि

बुद्ध जयंती इस साल 26 मई 2021, (बुधवार) को मनाई जाएगी जिसे बुद्ध पूर्णिमा भी कहा जाता है। कहा जाता है कि बुद्ध पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है। घर में सुख-शांति और खुशहाली आने की भी मान्यता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था और कठिन साधना के बाद बुद्धत्व की प्राप्ति भी हुई थी। यह त्योहार हिंदू और बौद्ध धर्म को मानने वाले लोगों के लिए बहुत खास है। ऐसी मान्यता है कि बुद्ध भगवान श्री हरि विष्णु के 9वें अवतार थे।
इस साल बुद्ध पूर्णिमा कई शुभ संयोगों में मनाई जाएगी। इस साल बुद्ध पूर्णिमा के दिन शिव और सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है। शिव योग 26 मई की रात 10 बजकर 52 मिनट तक रहेगा, इसके बाद शिव योग लगेगा।
क्यों मनाते हैं बुद्ध पूर्णिमा?
अपने जीवन में जब भगवान बुद्ध ने हिंसा, पाप और मृत्यु के बारे में जाना, तब ही उन्होंने मोह-माया का त्याग दिया और अपना परिवार छोड़कर सभी जिम्मेदारियों से मुक्ति ले ली और सत्य की खोज में निकल पड़े। जिसके बाद उन्हें सत्य का ज्ञान हुआ।
वैशाख पूर्णिमा की तिथि का भगवान बुद्ध के जीवन की प्रमुख घटनाओं से विशेष संबंध है, इसलिए बौद्ध धर्म में प्रत्येक वैशाख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा मनाई जाती है।

बुद्ध पूर्णिमा कब से कब तक है?
बुद्ध पूर्णिमा 25 मई दिन मंगलवार को रात 08 बजकर 29 मिनट से शुरू होकर 26 मई दिन बुधवार को शाम 04 बजकर 43 मिनट तक रहेगी।

शुभ योगों का समय
ब्रह्म मुहूर्त- 03:35 ए एम, मई 27 से 04:17 ए एम, मई 27 तक।सर्वार्थ सिद्धि योग- 04:59 ए एम से 01:16 ए एम, मई 27 तक।अमृत सिद्धि योग- 04:59 ए एम से 01:16 ए एम, मई 27 तक।
इस दौरान न करें पूजा-पाठ
राहुकाल- 11:45 ए एम से 01:27 पी एम तक।भद्रा- 04:59 ए एम से 06:36 ए एम तक।

बुद्ध पूर्णिमा के दिन कैसे करें पूजा
– सूरज उगने से पहले उठकर घर की साफ-सफाई करें।
– गंगा में स्नान करें या फिर सादे पानी से नहाकर गंगाजल का छिड़काव करें।
– घर के मंदिर में विष्णु जी की दीपक जलाकर पूजा करें और घर को फूलों से सजाएं।
– घर के मुख्य द्वार पर हल्दी, रोली या कुमकुम से स्वस्तिक बनाएं और गंगाजल छिड़कें।
– बोधिवृक्ष के आस-पास दीपक जलाएं और उसकी जड़ों में दूध विसर्जित कर फूल चढ़ाएं।
– गरीबों को भोजन और कपड़े दान करें।
– अगर आपके घर में कोई पक्षी हो तो आज के दिन उन्हें आज़ाद करें।
– रोशनी ढलने के बाद उगते चंद्रमा को जल अर्पित करें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending