पैदा हुआ मरा हुआ बच्चा, डॉक्टरों ने कूलिंग थैरेपी से बचाई जान, जन्म लेने के 11 मिनट लौटी नवजात की दिल की धड़कन

बेंगलुरू के रेनबो चिल्ड्रेन हॉस्पिटल से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां जन्मे एक नवजात बच्चे ने दुर्लभ बीमारी को मात दी है। जन्म होते ही ना बच्चे की सांसे चल रही थी और ना ही उसकी दिल की धड़कन काम कर रही थी। जन्म के 11 मिनट तक शरीर में किसी तरह का मूवमेंट भी नहीं दिखा। डॉक्टर्स ने हार नहीं मानी और कूलिंग थैरेपी की मदद से नवजात की जान बचाने में सफल रहे।

हॉस्पिटल के कंसल्टेंट डॉ. प्रदीप कुमार के मुताबिक, बच्चा एक दुर्लभ स्थिति से जूझ रहा था। ऐसे मामले मात्र 2 फीसदी बच्चों में सामने आते हैं। वैज्ञानिक भाषा में इसे हायपॉक्सिक इस्केमिक एनसेफेलोपैथी स्टेज-2 कहते हैं। डॉक्टर्स की टीम ने थैराप्यूटिक हाइपोथर्मिया मेथड की मदद से नवजात का इलाज किया। इसे कूलिंग थैरेपी भी कहते हैं। उन्होंने आगे कहा नवजात में ऐसी स्थिति प्रेग्नेंसी के दौरान मां में ब्लड सर्कुलेशन की कमी से बनती है। मां में ब्लड सर्कुलेशन की कमी का असर गर्भनाल के जरिए बच्चे पर पड़ता है और उसमें ऑक्सीजन की कमी हो जाती है।

डॉ. प्रदीप कुमार ने बताया, जन्म के तुरंत बाद होने वाली जांच (APGAR score) में पता चला नवजात की हालत बेहद नाजुक है। सबसे पहले रिससिटेशन तकनीक से 1 मिनट के अंदर उसका दिल धड़कना शुरू हुआ और धड़कन सामान्य हुई। लेकिन उसे पहली बार सांस लेने में 11 मिनट का वक्त लगा। बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. सुषमा कल्याण का कहना है, नवजात को 72 घंटे तक ठंडे माहौल में रखा गया। इसके बाद अगले 12 घंटे तक तापमान धीरे-धीरे बढ़ाया गया। इस दौरान उसके शरीर की हर एक्टिविटी पर नजर रखी गई। एमआरआई जांच में स्थिति सामान्य मिलने के बाद बच्चे को डिस्चार्ज किया गया।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending