छूने से नहीं फैलता ब्लैक फंगस, डायबिटिक पेशेंट को ज्यादा खतरा : एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया

एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने स्पष्ट करते हुए कहा कि ब्लैक फंगस (Mucormycosis) छूने से नहीं फैलता। डॉ. गुलेरिया ने सोमवार को कहा कि ऐसे डायबिटिक पेशेंट जो कोरोना संक्रमित हो चुके हैं, उन्हें ब्लैक फंगस का सबसे ज्यादा खतरा होता है।

उन्होंने आगे कहा कि ब्लैक फंगस मुख्य रूप से साइनस, आंखों के आसपास की हड्डियों में पाया जाता है और वहां से यह मस्तिष्क में भी प्रवेश कर सकता है। इसके साथ ही कम इम्युनिटी वालों को जरूर ब्लैक फंगस का ज्यादा खतरा होता है। डॉ. गुलेरिया ने कहा कि कभी-कभी यह फंगस लंग्स और गैस्ट्रोइन्टेस्टनल ट्रैक्ट में भी मिलता है। 

उन्होंने कहा कि शरीर के अलग-अलग हिस्सों में मिलने वाले इस फंगस का रंग भी अलग-अलग होता है। हालांकि यह इन्फेक्शन संक्रामक नहीं है। हैं। ऐसे में इसकी अनदेखी करना घातक हो सकता है। इस इन्फेक्शन का उपचार यदि जल्‍दी शुरू हो जाता है तो मरीज को फायदा होता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending