भाजपा ने शिवसेना पर किया पलटवार कहा, हिंदुत्व का त्याग कर चुकी शिवसेना हमे हिंदुत्व पर नसीहत ना दें

संघ प्रमुख मोहन भागवत की ओर से रविवार को हिंदुत्व और मॉब लिंचिंग पर दिए बयान पर अब विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा मायावती और ओवैसी के अलावा खुद संघ के सदस्य भी मोहन भागवत का विरोध करते नजर आ रहे है। इसी कड़ी में अब शिवसेना ने सामना में संपादकीय के जरिए मोहन भागवत के बयान के बहाने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि, ” बीते 7 साल में घर में ‘बीफ’ मिलने के शक में कई लोगों की मॉब लिंचिंग कर दी गई।

लेकिन इससे उलट हिन्दुत्ववादी सरकार वाले कई राज्यों में गाय का मांस बेचा जाता है और इससे बड़ी कमाई की जाती है। यह तो सरासर ढोंग है और संघ प्रमुख ने इसी पर हमला बोला है।” सामना में शिवसेना ने आगे लिखा कि संघ प्रमुख ने भले ही ये मान लिया है कि धर्म के आधार पर किसी से भेदभाव नहीं करना चाहिए, लेकिन क्या संघ का राजनीतिक अंग भाजपा ने इस बात को स्वीकार किया है।

मुखपत्र में आगे कहा गया कि देश में धर्म देखकर किसी का वर्चस्व स्थापित नहीं होने की बात भागवत ने कही है लेकिन क्या दिल्ली में बैठे सत्ताधारी इसे मानने को तैयार हैं। इसके जवाब में बीजेपी ने शिवसेना पर पलटवार करते हुए कहा कि हिन्दुत्व त्याग चुकी शिवसेना को हमें नसीहत देने का कोई अधिकार नहीं है पार्टी नेता राम कदम ने कहा कि जो पार्टी हिन्दुत्व का त्याग कर चुकी है वो संघ प्रमुख के भाषण को क्या समझेगी।

उन्होंने कहा कि शिवसेना को पहले हिन्दुत्व पर चिंतन की जरूरत है। राम कदम ने आगे कहा कि अगर ये स्वर्गीय बाला साहब ठाकरे की शिवसेना होती तो इस बयान को समझ भी पाती। लेकिन कोर्ट में भगवान राम के मंदिर का विरोध करने वाली कांग्रेस के साथ सरकार बनाने वाली शिवसेना को हिन्दुत्व कभी नहीं समझ आएगा। उन्होंने कहा कि सत्ता के लालच में शिवसेना ने हिन्दुत्व का त्याग कर दिया और महाराष्ट्र की जनता के साथ धोखा किया है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending