राजनीतिक फायदे के लिए जनसंख्या नीति का मुद्दा उठा रही भाजपा: कांग्रेस नेता शशि थरूर

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने शनिवार को जनसंख्या नियंत्रण बिल को लेकर भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा राजनीतिक फायदे के लिए जनसंख्या का मुद्दा उठा रही है। इसका मकसद सिर्फ और सिर्फ एक खास समुदाय को निशाना बनाना है। उन्होंने संसद के सत्र पर आगे कहा की विपक्ष कुछ मुद्दों पर सरकार से चर्चा करना चाहता है, लेकिन वहां हंगामा कर सत्र को रोका जाता है। केंद्र सरकार संसद को एक नोटिस बोर्ड के रूप में देखना पसंद करती है, जहां वह सिर्फ अपने कानूनों और नीतियों की घोषणा करती है।
जब शशि थरूर से जनसंख्या नियंत्रण को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा की इस पर बहस करना ही बेकार है। या चर्चा पिछले 50 साल से चल रही है। आबादी के बड़े हिस्से वाले राज्यों में जन्म दर तो स्थिर है। अगले 20 साल में देश के सामने सबसे बड़ी चुनौती बुजुर्ग आबादी को लेकर होगी, न कि बढ़ती आबादी की। जहां तक यूपी सरकार का सवाल है तो भाजपा राजनीतिक फायदे के लिए जनसंख्या का मुद्दा उठा रही है। इसका मकसद सिर्फ और सिर्फ एक खास समुदाय को निशाना बनाना है।
कांग्रेस सांसद शशि थरुर ने आगे कहा की, ” उत्तर प्रदेश, असम और लक्षद्वीप में आबादी कम करने की बात हो रही है, यहां हर कोई जानता है कि भाजपा का इरादा किस ओर है। हमारी राजनीति में हिंदूवादी तत्वों ने वास्तव में जनसांख्यिकीय मुद्दों का अध्ययन ही नहीं किया है। उनका मकसद विशुद्ध रूप से राजनीतिक और सांप्रदायिक है। भाजपा के कई सांसद भी आगामी मानसून सत्र (19 जुलाई से 13 अगस्त) में जनसंख्या नियंत्रण और समान नागरिक संहिता पर बिल लाने की तैयारी कर रहे हैं।”
संसद के मानसून सत्र पर सरकार को घेरने की नीतियों के सवाल का जवाब देते हुए शशि थरूर बोले, “कोरोना का कुप्रबंधन, वैक्सीनेशन पॉलिसी, कृषि कानून को लेकर किसानों के आंदोलन को हल करने में विफलता, विकास दर, पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतें, खाने-पीने की चीजों का महंगा होना और बढ़ती बेरोजगारी जैसे बहुत सारे मुद्दे हैं। मैं तो कहता हूं कि केंद्र सरकार इतनी अक्षम है कि कई मुद्दे हैं। हमें बस जनहित में उठाने की जरूरत है।”
विदेशों में सरकार की पहुंच और सफलता के सवाल मे जवाब देते हुए शशि थरूर ने कहा की फ्रांस के साथ राफेल विमान की खरीदी को लेकर सरकार सही जानकारी नहीं दे रही है। फ्रांस में इस पर जांच बैठा दी गई है। इसके साथ ही चीन के साथ बॉर्डर विवाद, अफगानिस्तान संकट जैसे मामलों में सरकार की नीति विफल रही है।
वहीं शांतिपूर्ण सत्र के सवाल पर उन्होंने जवाब देते हुए कहा की, संसद को सरकार एक नोटिस बोर्ड के रूप में देखना पसंद करती है जहां वह सिर्फ अपने कानूनों और नीतियों की घोषणा करती है। आपने देखा होगा कि पिछले किसी भी सत्र में हंगामे का एकमात्र कारण रहा है। सरकार व्यवधान के माध्यम से मुद्दों से बचती रही है।
थरुर आगे कहते है की हमेशा सत्ताधारी पार्टी के राष्ट्रीय महत्व के एक विशिष्ट मुद्दे पर चर्चा करने से इनकार करने के कारण ही सत्र में बाधा आती है। विपक्ष के पास ध्यान आकर्षित करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। मैं सरकार से आग्रह करता हूं कि वो किसी भी मुद्दे पर बहस करने का साहस दिखाए।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending