सुभाष चंद्र बोस की बेटी अनीता बोस का बड़ा बयान, कहा – सिर्फ अहिंसा नीति से नही मिली थी आजादी

कंगना रनौत ने पिछले दिनों गांधी और सुभाष चंद्र बोस पर टिप्पणी की थी। जिसमे उन्होंने कहा था कि  गांधी और  नेहरू दोनों ही नेताजी सुभाष चंद्र बोस को अंग्रेजों को सौंपने के लिए तैयार थे। कंगना के इस बयान के बाद ना केवल सोशल मीडिया पर बल्कि देश भर में उनका विरोध किया गया। इस बीच अब सुभाष चंद्र बोस की बेटी अनीता बोस की प्रतिक्रिया सामने आई है। जिसमे उन्होंने अपने पिता के बारे में बात करते हुए कहा है की नेता जी और महात्मा गांधी दोनो के ही रिश्ते बेहद जटिल थे।

उन्होंने कहा है कि मेरे पिता की प्रवृति काफी जटिल थी और गांधी जी को लगता था कि वो नेताजी को कंट्रोल कर सकते हैं, लेकिन वो ऐसा नहीं कर पा रहे थे। वहीं दूसरी तरफ मेरे पिता (सुभाष चंद्र बोस) गांधी के बहुत बड़े प्रशंसक थे। अनीता बोस ने कहा कि मेरे पिता के अंदर अपने काम को लेकर गांधी की प्रतिक्रिया के बारे में उत्सुकता रहती थी। इसके अलावा अनीता ने बताया कि सिर्फ अहिंसा की नीति से ही आजादी को नहीं मिली थी। 

अनीता बोस ने कहा है, “कांग्रेस के कुछ सदस्यों को ये जरूर लगता था कि केवल अहिंसा की नीति से ही देश को आजादी नहीं दिलाई जा सकती, नेताजी और इंडियन नेशनल आर्मी का उस वक्त आजादी में अहम योगदान था। हालांकि ये दावा करना भी गलत होगा कि सिर्फ नेताजी और आर्मी की बदौलत ही देश को आजादी मिली थी। गांधी और नेताजी ने सभी को आजादी के लिए प्रेरित किया था।” बता दें अनीता बोस ने यह बातें एक टीवी इंटरव्यू के दौरान कही है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending