चुकंदर का रस करता है उम्र के असर को कम, साथ ही करे ब्लड प्रेशर को नियंत्रित, जानें इसके अन्य फायदे

हाल ही में ‘रेडॉक्स बायोलॉजी’ जर्नल में प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि चुकंदर का जूस मुंह के बैक्टीरिया का
मिश्रण स्वस्थ रक्त वाहिकाओं और मस्तिष्क के कार्य से जुड़ा होता है। यह अध्ययन वाशिंगटन के एक्सेटर
विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों द्वारा किया गया है।

कई अन्य खाद्य पदार्थ अकार्बनिक नाइट्रेट से भरपूर होते हैं और मुँह के बैक्टीरिया नाइट्रेट को नाइट्रिक ऑक्साइड में
बदलने का काम करते हैं। यह रक्त वाहिकाओं और न्यूरोट्रांसमिशन में काफी सहयोग करते हैं। बढ़ते उम्र के साथ
नाइट्रिक ऑक्साइड का निर्माण बहुत काम हो जाता है और यह रक्त वाहिका और मस्तिष्क से जुड़ा होता है।

वाशिंगटन के एक्सेटर विश्वविद्यालय में किए गए अध्ययन में 26 स्वस्थ वृद्ध लोगों को दस-दिवसीय दो पूरक
अवधियों में शामिल किया गया। पहले नें नाइट्रेट-मुक्त प्लेसबो जूस के साथ वहीं दूसरे ने नाइट्रेट युक्त चुकंदर के रस
के साथ, जिसे उन्होंने दिन में दो बार पिया।

शोधकर्ताओं ने पाया कि अच्छे संवहनी और संज्ञानात्मक स्वास्थ्य के साथ जुड़े बैक्टीरिया के के स्तर उच्च पाए गए
जबकि रोग और सूजन से जुड़े बैक्टीरिया स्तर निम्न पाए गए। जिन लोगों ने चुकंदर का जूस पिया था उनका
सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर औसतन पांच अंक (एमएमएचजी) कम हो गया। शोधकर्ताओं ने कहा कि माइक्रोबायोम
दीर्घावधि उम्र बढ़ने वाले नकारात्मक संवहनी और संज्ञानात्मक परिवर्तनों को धीमा कर दिया।

नाइट्रेट युक्त आहार का यह पहला परीक्षण 
एक्सेटर विश्वविद्यालय के प्रमुख शोधकर्ता प्रोफेसर एनी वानाथालो ने बताया कि वास्तव में हम इन निष्कर्षों से
काफी उत्साहित हैं, क्योंकि यह स्वस्थ उम्र बढ़ने के लिए महत्वपूर्ण है। इससे पहले के किए गए अध्ययनों में युवा
और वृद्ध लोगों के मौखिक बैक्टीरिया और स्वस्थ लोगों की तुलना बीमारियों के साथ की गई है लेकिन यह पहला
परीक्षण है जिसमें नाइट्रेट युक्त आहार शामिल किया गया है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending