बांग्लादेश: हिंदुओं के मंदिरों में फिर हुई तोडफ़ोड़, मां काली और सरस्वती की मूर्ति को खण्डित कर सड़क किनारे फेंका गया

भारत के पड़ोसी देश बांग्लादेश से दो शर्मनाक कृत्यों की खबरें सामने आईं हैं। उपद्रवियों ने बांग्लादेश में हिंदुओं के मंदिरों को फिर से अपना निशाना बनाया है। हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ कर मां काली और सरस्वती की प्रतिमाओं को खंडित कर के सड़कों पर फेंक दिया गया है। घटना को रविवार 30, मई 2021 को दो अलग अलग जगह अंजाम दिया गया है।
पहली घटना बांग्लादेश के आगामारा गांव की है। जहां आगामारा गांव में मौजूद एक काली माँ के मंदिर पर हमला किया गया तथा माँ काली की प्रतिमा को विखंडित कर सड़क पर फेंक दिया गया। यह क्षेत्र पुलिस थाना राजबारी सदर के अंतर्गत आता है। वहीं दूसरी घटना बांग्लादेश के भुक्तापुर गाँव की है। सरस्वती मंदिर पर देर रात आक्रमण कर माँ सरस्वती की प्रतिमा को तोड़कर सड़क पर फेंक दिया गया। 
पहली घटना आगामारा गाँव की है। गांव में मौजूद एक काली माँ के मंदिर पर हमला किया गया तथा माँ काली की प्रतिमा को विखंडित कर सड़क पर फेंक दिया गया। यह क्षेत्र पुलिस थाना राजबारी सदर के अंतर्गत आता है। एक ही रात में दो अलग-अलग जगहों पर समान हमले किसी योजनाबद्ध तरीके से की गई साज़िश की ओर इशारा करते हैं।
पुलिस द्वारा अभी तक जाँच किए जाने का दावा हो रहा है। परन्तु आज इतने दिन बीत जाने के बाद भी दोनों ही मामलों में किसी प्रकार की कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। ऐसा पहले भी देखा गया है कि बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों तथा उनके प्रार्थना स्थानों पर हमलों को लेकर प्रशासन ढीला रवैया अपनाता ही नजर आता है।

गौरतलब हो कि पाकिस्तान के साथ-साथ बांग्लादेश में भी हिंदुओं के धर्मस्थलों पर आक्रमण तथा प्रतिभाओं को खंडित करने की घटनाएँ होती ही रहती हैं। पहले भी बांग्लादेश में देखा गया है कि अल्पसंख्यक हिंदुओं की स्थिति कुछ विशेष अच्छी नहीं है। आए दिन उन पर एवं उनके अर्चना स्थानों पर हमले होना आम सी ही बात है। इसी वर्ष मार्च के माह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बांग्लादेश दौरे के समय देश में कई हिंदुओं के समस्त गाँवों को जला दिया गया था एवं कई घरों में लूटपाट भी की गई थी।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending