बदलते मौसम में खांसी, जुकाम और बुखार होने पर इन चीजों के सेवन से बचें, नहीं तो होगी ज्यादा परेशानी

बरसात के मौसम में कई सारी बीमारियां लोगों को अपना शिकार बना लेती हैं। ये मौसम इतना ज्यादा खतरनाक होता है कि कब आपको बुखार, खांसी और जुकाम हो जाये इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है। इस खास वजह से लोगों को बारिश के दिनों में  हेल्दी और इम्यूनिटी बढ़ाने वाली चीजें खाने की सलाह दी जाती है, क्योंकि एक तरफ बदलता मौसम तो दूसरी तरफ कोरोना कहर ऐसे में इम्यूनिटी मजबूत रखना बेहद जरूरी है तभी शरीर भी स्वस्थ रहेगा।

आमतौर पर डॉक्टर लोगों को ताजा खाना और फल खाने की सलाह देते हैं और बाहर का खाना और बासी खाना खाने से बचने को कहते हैं। हालांकि बहुत बार ऐसा भी हो जाता है हम जिन चीजों को हेल्दी समझ के खा लेते हैं बाद में वो ही खांसी, जुकाम और बुखार जैसी समस्याओं को कई गुना बढ़ा देते हैं, लेकिन थोड़ी सी सावधानी बरती जाए तो इन बीमारियों से बचा भी जा सकता है। आइये आपको बताते हैं बारिश के मौसम में किन चीजों के सेवन से परहेज करना चाहिए?

खट्टे फल: बारिश के दिनों में खट्टे फल का सेवन से बचना चाहिए। दरअसल संतरा, अंगूर, नींबू और मौसमी जैसे खट्टे फलों में साइट्रिक एसिड पाया जाता है, जो गले में परेशानी का कारण बन सकता है। इसलिए गले में खराश, दर्द और खांसी की समस्या में इनका सेवन नहीं करना चाहिए, वरना दिक्कत और बढ़ सकती हैं। 

केला: वैसे तो केला शरीर को तुरंत एनर्जी देने वाला फल है। केले के इसी खास फायदे की वजह से कई सारे लोग नियमित रूप से सुबह में इसका सेवन करते हैं। चूंकि केले की तासीर ठंडी होती है, तो ये बरसात के मौसम में खांसी, जुकाम आदि की परेशानियां बढ़ा सकता है। इसलिए थोड़े दिनों के लिए केला खाने से परहेज करना बेहतर होगा।  

पपीता: पपीता एक ऐसा फल है जिसको सेहत के लिए सबसे ज्यादा लाभदायक बताया जाता है, क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन से पाया जाता है। लेकिन खांसी और जुकाम की समस्या होने पर इसका सेवन करने से बचें, क्योंकि यह नासिका मार्ग में सूजन की समस्या बढ़ा सकता है। 

स्ट्रॉबेरी: स्ट्रॉबेरी खाना ज्यादातर लोगों को पसंद होता है, साथ ही यह सेहत के लिए बहुत फायदेमंद मानी जाती है। दरअसल स्ट्रॉबेरी में कई बीमारियों से लड़ने की क्षमता होती है। वहीं इसके ज्यादा सेवन से कुछ नुकसान भी झेलने पड़ सकते हैं। ज्यादा स्ट्रॉबेरी का सेवन करने से खून के जमाव का कारण बन सकता है, जिससे छाती में जमा हुआ बलगम नाक और साइनस वाले हिस्से में परेशानियों को और बढ़ा सकता है। इसलिए याद रखें खांसी, जुकाम और बुखार की स्थिति में भूलकर भी इसका सेवन नहीं करें। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending