दुनिया भर में हुई किरकिरी के बाद सामने आए अशरफ गनी बोले- जो लोग मुझे नहीं जानते हैं वो अपना फैसला ना सुनाएं

अफगानिस्तान छोड़ने के चौथे दिन बुधवार को देर रात अशरफ गनी पहली बार सबके सामने आए और अपना वीडियो संदेश जारी कर कहा कि मैं देश छोड़कर नहीं आता तो कत्लेआम हो जाता, खून-खराबा होता। उन्होंने आगे कहा की मैं देश में ऐसा होते नहीं देख सकता था, इसलिए मुझे हटना पड़ा। उन्होंने अपने ऊपर लगे सभी बेबुनियादी आरोपो को भी खारिज किया। बता दें कि अशरफ गनी 15 अगस्त को अफगानिस्तान से भाग गए थे।

उन्होंने पैसे लेकर भागने के आरोपों को भी खारिज करते हुए कहा कि ये आरोप बेबुनियाद हैं। मैं देश के पैसे लेकर नहीं आया हूं। मैं शांति से सत्ता सौंपना चाहता था। अफगानिस्तान छोड़कर मैंने अपने मुल्क के लोगों को खूनी जंग से बचाया है। उन्होने आगे कहा की सुरक्षा कारणों की वजह से अफगानिस्तान से दूर हूं। सुरक्षा अधिकारियों की सलाह के बाद ही मैंने यह कदम उठाया। बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा हो गया है।

अफगानिस्तान के नाम संदेश में अशरफ गनी ने कहा कि उन्हें उनकी इच्छा के खिलाफ देश से बेदखल किया गया। भगोड़ा कहने वालों को उनके बारे में जानकारी नहीं है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के बयानों पर गनी ने कहा कि हम तालिबान से बातचीत कर रहे थे, लेकिन यह बेनतीजा रही। उन्होंने सेना और अधिकारियों को धन्यवाद भी किया। इसलिए जो मुझे नहीं जानते हैं वो फैसला ना सुनाएं। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending